अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कस्तूरबा विद्यालय को 10वीं तक करने की तैयारी

निर्धन व बेसहारा बालिकाओं को शिक्षा की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए चल रहे कस्तूरबा गांधी विद्यालयों को हाईस्कूल तक करने के प्रयास तेज हो गए हैं। शासन की ओर से इसके लिए सूबे के सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों से इन स्कूलों में बालिकाओं की संख्या, भवन सहित नजदीकी इंटर कॉलेजों की जानकारी मांगी गई है।
गौरतलब है कि सरकार की ओर से गरीब व बेसहारा लड़कियों को शिक्षित व आत्मनिर्भर बनाने के लिए सूबे के सभी जनपदों में कस्तूरबा गांधी विद्यालयों का संचालन किया जा रहा है।

इन स्कूलों में बालिकाओं के रहने के साथ खाने-पीने की निशुल्क व्यवस्था है। लेकिन इन स्कूलों को दसवीं की मान्यता न होने की वजह से बालिकाओं को आगे की पढ़ाई में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। शासन द्वारा गरीब तबके की बालिकाओं को शिक्षा की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए कस्तूरबा स्कूलों को हाईस्कूल तक करने के प्रयास किए जा रहे हैं। इसलिए सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों से कस्तूरबा स्कूलों में पढ़ने वाली बालिकाओं की संख्या, स्कूल भवन व विद्यालय के नजदीक इंटर कॉलेजों की जानकारी मांगी गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कस्तूरबा विद्यालय को 10वीं तक करने की तैयारी