अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उपभोक्ता शिकायत निवारण फोरम ने दिलवाया मुआवजा

बिना कागज हासिल किए एक कंसाइनमेंट की डिलिवरी देने से पेमेंट न मिलने की एक शिकायत पर जिला उपभोक्ता शिकायत निवारण फोरम ने एक ट्रांसपोर्टर और सामान खरीदने वाली फरीदाबाद की एक कंपनी को पेमेंट देने के अलावा मामले की पैरवी का खर्च अदा करने के निर्देश दिए हैं।


फोरम के फैसले के मुताबिक अमरटेक्स पंचकुला ने खुशदिल रोडवेज सेक्टर-26 चंडीगढ़ और इंडो ब्रिटिश गारमेंट फरीदाबाद के खिलाफ शिकायत की थी। इंडो ब्रिटिश ने अमरटेक्स से एक लाख 39 हजार पांच सौ रुपए का सामान खरीदा था और इसे फरीदाबाद पहुंचाने के लिए खुशदिल ट्रांसपोर्ट को हायर किया गया था। ट्रांसपोर्ट ने इंडो ब्रिटिश से कोई कागज और कंसाईनी कापी लिए बगैर ही इंडो ब्रिटिश को माल सौंप दिया। पेमेंट इंडो ब्रिटिश ने करनी थी, लेकिन अमरटेक्स को कोई पेमेंट नहीं हुई, इसके चलते अमरटेक्स ने दोनों के खिलाफ सेवा में कोताही की शिकायत करते हुए मुआवजा दिलाने की गुहार लगाई थी।

शिकायत में यह भी कहा गया कि ट्रांसपोर्ट ने इंडो ब्रिटिश को जानबूझ कर बिना अनुमति के सामान डिलिवर कर दिया। इसके चलते अमरटेक्स को एक लाख 39 हजार पांच सौ का नुकसान हुआ है। अमरटेक्स ने दोनों को कानूनी नोटिस भी भेजा, लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ा, ऐसे में उपभोक्ता फोरम में शिकायत की गई। फोरम के नोटिस पर ट्रांसपोर्टर ने जबाव दिया कि डिलिवरी देने के बाद पेमेंट लाना ट्रांसपोर्ट की डच्यूटी नहीं है, क्योंकि यह दोनों पार्टियों के आपसी लेन देन का मामला है। इंडो ब्रिटिश ने जबाव में कहा कि अमरटेक्स से दो लॉट बुक कराए गए थे, लेकिन एक ही लॉट मिला और दूसरा लॉट न मिलने की वजह से उसे नुकसान उठाना पड़ा है। उनका दिल्ली मेट्रो रेल का ऑडर कैंसिल हो गया।

दोनों पक्षों को सुनने के बाद फोरम ने पाया है कि ट्रांसपोर्टर को सामान की डिलिवरी देते समय जरूरी कागजात लेने चाहिए थे, जो उसने नहीं ली। ऐसे में उसकी सेवा में कोताही है। उधर अमरटेक्स ने कहा कि इंडो ब्रिटिश ने जब पहली एसाइनमेंट की पेमेंट नहीं दी तो दूसरी एसाइनमेंट भेजने का प्रश्न नहीं उठता। उधर इंडो ब्रिटिश ने दूसरी कंसाइनमेंट ने मिलने से उसे हुए नुकसान का कोई सबूत नहीं दिया। ऐसे में यह भी सवाल उठता है कि दोनों की ओर से कोताही के चलते अमरटेक्स की पेमेंट नहीं हो सकी। फोरम ने दोनों को अमरटेक्स के एक लाख 39 हजार पांच सौ रुपए अदा करने के अलावा मामले की पैरवी के खर्च के लिए दस हजार रुपए अदा करने के निर्देश दिए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:उपभोक्ता शिकायत निवारण फोरम ने दिलवाया मुआवजा