DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अंग्रेजी न बोलने पर पर छात्र की निर्मम पिटाई

बच्चे द्वारा पिता से मोबाइल फोन पर हिन्दी में बात करना एक विद्यालय के संचालक को इतना नागवार लगा कि उन्होंने उसकी पिटाई कर दी। पिटाई से क्षुब्ध होकर भाग रहे छात्र को फिर निर्ममता से पीटा गया। इस घटना से आक्रोशित लोगों ने विद्यालय संचालक को पकड़कर पुलिस को सौंप दिया। छात्र ने अपने जख्म उपजिलाधिकारी को दिखाये तो उन्होंने दोषी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराने का आदेश दिया। उधर स्कूल संचालक का कहना है कि छात्र बुधवार को हास्टल से भाग रहा था तो उसे डांटा गया था। गुरुवार को वह फिर भागने लगा तो वह उसे पकड़ने गये थे कि लोगों ने उन्हें ही पीटकर पुलिस के हवाले कर दिया।


क्षेत्र के जल्दीपुर (तेलमा) निवासी रामनवमी का पुत्र मंजीत (12) बिल्थरारोड-मधुबन मार्ग के कृषि मंडल स्थित आनंद पब्लिक आवासीय स्कूल में पांचवीं का छात्र है। स्कूल के संचालक आनंद  पांडेय ने उसकी इसलिए जमकर पिटाई की क्योंकि वह अपने पापा से मोबाइल पर अंग्रेजी के बजाये हिन्दी में बात कर रहा था। ‘हिन्दुस्तान’ प्रतिनिधि को अपने जख्म दिखाते हुए मंजीत ने बताया कि 22 जुलाई को उसके पापा का फोन आया तो टीचर आनंद ने अंग्रेजी में बात करने को कहा। मंजीत ने पापा से सिर्फ ‘गुड मार्निग पापा’ कहा और फिर हिन्दी में बात करने लगा। मंजीत का हिन्दी में बात करना स्कूल संचालक को बुरा लगा और उन्होंने उसकी डंडे से पिटाई कर दी। गुरुवार की सुबह पिटाई से क्षुब्ध मंजीत जब हॉस्टल छोड़कर घर की ओर जाने के लिए भाग निकला तो उसका पीछा करते हुए आनंद पांडेय भी गये और तहसील भवन के कुछ पहले उसे पकड़ कर फिर पीटने लगे। यह देख आसपास के लोग वहां पहुंच गये और मंजीत को छुड़ाया तथा आनंद को पुलिस के हवाले कर दिया। लेकिन आनंद पांडेय ने अंग्रेजी न बोलने के लिए छात्र की पिटाई करने से इनकार करते हुए कहा कि बच्चे बार-बार हॉस्टल से भागने का प्रयास कर रहा था। इसलिए उन्होंने बुधवार को उसे डांटा था और हल्की पिटाई की थी। गुरुवार को वह फिर हॉस्टल से भागा तो उन्होंने उसका पीछा किया।  तभी लोगों ने मुझे ही पकड़कर पीटा तथा पुलिस के हवाले कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अंग्रेजी न बोलने पर पर छात्र की निर्मम पिटाई