अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्रेडिट कार्ड प्रोसेसिंग

आज के दौर में क्रेडिट कार्ड रोजमर्रा के कामकाज की जरूरत बन गया है। शॉपिंग से लेकर कई जरूरी कामों में लोग क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन एक तरफ जहां यह सुविधा कई मायनों में लोगों के लिए लाभप्रद है, तो इसके कई नुकसान भी देखने में आ रहे हैं। क्रेडिट कार्ड का फर्जी तरीके से इस्तेमाल जैसे मामले रोजाना खबरों की सुíखयों में होते हैं। ऐसे में ये जानना बेहद जरूरी हो जाता है कि क्रेडिट कार्ड कैसे काम करता है। आप जब कॉर्ड से पेमेंट करते हैं, तो उसका रिकॉर्ड कहां एकत्रित होता है। ताकि आगे से जब भी अपने क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करें, तो किसी तरह की परेशानी न आए।

ईडीसी प्रोसेसिंग : जब ग्राहक किसी उत्पाद या सुविधा के लिए कार्ड द्वारा पेमेंट करता है, तो कार्ड की जानकारी मैनुअल इंट्री, कार्ड इंप्रिंटर, प्वांइट ऑफ सेल टर्मिनल,वर्चुअल टर्मिनल में रिकॉर्ड हो जाती है। उसके बाद पेमेंट का सत्यापन किया जाता है, फिर व्यापारी को पेमेंट प्राप्त होता है।

खरीदारी : कार्डधारक खरीदारी के लिए अदा करता है, फिर व्यापारी अधिग्राहक को ट्रांजेक्शन सब्मिट करता है। इसके बाद ग्राहक के सत्यापित करने के बाद ही ट्रांजेक्शन हो जाता है।

बैचिंग : ट्रांजेक्शन के अधिकृत होने के बाद यह बैच के रूप में स्टोर हो जाता है।

क्लीयरिंग एंड सेटलमेंट : अधिग्राहक कार्ड एसोसिएशन के द्वारा बैच के रूप में ट्रांजेक्शन भेजता है। एक बार अधिग्राहक को जब यह पैसा मिल जाता है, तब दुकानदार को पैसा प्राप्त होता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:क्रेडिट कार्ड प्रोसेसिंग