DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आर्यभट्ट की स्मृति से जुड़े स्थानों का विकास: नीतीश

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि पांचवी शताब्दी के महान खगोलशास्त्री एवं गणितज्ञ आर्यभट्ट की स्मृति से जुड़े स्थानों को विकसित किया जाएगा तथा वहां अध्ययन एवं शोध कार्य किए जायेंगे।


कुमार शताब्दी के सबसे महत्वपूर्ण सूर्यग्रहण को देखने के लिए तारेगना में इकट्टा हुए खगोलशास्त्रियों एवं मीडियाकर्मियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि तारेगना महान गणितज्ञ और खगोलशास्त्री आर्यभट्ट की कर्मस्थली रहा है और ऐतिहासिक सूर्यग्रहण के केन्द्रीय पथ पर अवस्थित होने के कारण आज दुनिया भर के खगोलशास्त्रियों के आकर्षण का केन्द्र बना है।


 उन्होंने कहा कि तारेगना के अलावा पटना के समीप खगौल और बिहटा के समीप परेव के निकट भी एक अन्य तारेगना की चर्चा की जा रही है जहां से आर्यभट्ट ने खगोलीय गणना की होगी। उन्होंने कहा कि इन तीनो स्थानों को त्रिभुजाकार क्षेत्र के तीन बिंदु मानकर इनके सर्वांगीण विकास के लिए राज्य सरकार सुनियोजित प्रयास करेगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि विगत कई दिनों से वैज्ञानिकों एवं खगोलशास्त्रियों की टीम तारेगना में सूर्यग्रहण के दीदार की तैयारी में लगी थी और लोगों में पूर्ण सूर्यग्रहण की ऐतिहासिक घटना को देखने की उत्सुकता थी हालांकि वैसा दृश्य देख पाना संभव नहीं हो सका लेकिन दिन में अंधेरा और सूर्योदय के कुछ देर बाद पुन सूर्योदय की जो अनुभूति हो रही है वह आजीवन अविस्मरणीय है। उन्होंने कहा कि इस अवस्मिरणीय घटना को देशविदेश से आए वैज्ञानिक खगोलविद एवं मीडियाकर्मी के साथ ही राज्य के विभिन्न हिस्सों से आए हजारों लोगों ने देखा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आर्यभट्ट की स्मृति से जुड़े स्थानों का विकास: नीतीश