अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कसाब की स्वीकारोक्ति में पूरी सचाई नहीं : अभियोजन

कसाब की स्वीकारोक्ति में पूरी सचाई नहीं : अभियोजन

मुंबई पर आतंकी हमले में गिरफ्तार आतंकवादी मोहम्मद अजमल कसाब की अपनी भूमिका के बारे में स्वीकारोक्ति को अभियोजन पक्ष ने पूरी तरह खारिज करते हुए कहा है कि वह पूरी सचाई बयां नहीं कर रहा है।

विशेष सरकारी वकील उज्जवल निकम ने सुनवाई अदालत में कहा कि कसाब ने अपनी स्वीकारोक्ति में पूरी सचाई बयां नहीं की है। लिहाजा अभियोजन पक्ष को उसके तथा मामले में अन्य अभियुक्तों के खिलाफ सबूत पेश किये जाने की अनुमति दी जाय।

निकम ने कहा कि कसाब पूरी सचाई नहीं बता रहा। उसने चतुराई से अपनी भूमिका कम बतायी है ताकि उसे कम सजा मिले और पाकिस्तान में उसके आका बच जाएं। निकम ने बताया कि पाकिस्तानी अपराध प्रक्रिया संहिता में एक प्रावधान है जिसमें देश के बाहर एकत्रित सबूतों को वहां की किसी अदालत में पेश किये जाने की बात है।

उन्होंने कहा कि कसाब काफी चतुराई और बुद्धिमता से यह कह रहा है कि उसे मौत की सजा दी जाय क्योंकि अगर अपराध में उसकी बड़ी भूमिका साबित नहीं हुई तो कोई अदालत उसे यह सजा नहीं देगी।

विशेष सरकारी वकील ने कहा कि अपनी स्वीकारोक्ति के जरिये कसाब यह दावा करने की कोशिश कर रहा है कि उसने मारे गये आतंकवादी अबू इस्माइल के अधीन भूमिका निभायी। उन्होंने कहा कि हम केवल दो घटनाओं में उसकी स्वीकारोक्ति मान सकते हैं। (मुंबई) सीएसटी फायरिंग तथा सकोडा वाहन की चोरी।

निकम ने कहा कि कसाब ने कामा अस्पताल में फायरिंग, कामा अस्पताल के बाहर एक पुलिस जीप पर हमला तथा गिरगाम चौपाटी में पुलिस के साथ मुठभेड़ जैसी अन्य घटनाओं में अपनी भूमिका स्वीकार नहीं की है।

उन्होंने दलील दी कि कई गवाहों ने कामा अस्पताल में फायरिंग करने वालों तथा उस पुलिस जीप पर हमला करने वालों में पहचाना है जिसमें एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे, अतिरिक्त पुलिस आयुक्त अशोक कामटे तथा एनकाउंटर विशेषज्ञ विजय सालस्कर की मौत हो गयी थी।

निकम ने अदालत को यह भी बताया कि कसाब की स्वीकारोक्ति तथा 18 फरवरी को मजिस्ट्रेट के समक्ष दिये गये उसके बयान में कई विरोधाभास हैं।

मजिस्ट्रेट के समक्ष अपनी स्वीकारोक्ति में कसाब ने कहा कि स्कोडा लूटने के बाद इस्माइल ने उससे कहा कि वे दक्षिण मुंबई में मालाबार हिल जा रहे हैं। विशेष अदालत में अपना जुर्म कबूलते वक्त उसने लेकिन यह कहा कि इस्माइल लापता हो गया था और उन्हें नहीं पता था कि उन्हें कहां जाना है।

निकम ने कहा कि कसाब ने मजिस्ट्रेट के समक्ष यह भी खुलासा किया कि दो अन्य गिरफ्तार अभियुक्तों फाहिम अंसारी तथा साबुद्दीन अहमद ने मुंबई का नक्शा तैयार किया तथा उसे पाकिस्तानी आकाओं को सौंप दिया। उनके अनुसार विशेष अदालत के समक्ष लेकिन कसाब ने एक बार भी अंसारी और अहमद का नाम नहीं लिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कसाब की स्वीकारोक्ति में पूरी सचाई नहीं : अभियोजन