अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिजली नहीं तो वोट नहीं

डोभी बाइपास पुराना टोला में बिजली नहीं पहुंचने से आक्रोशित ग्रामीणों ने इसे चुनावी मुद्दा बना लिया है। आसन्न लोकसभा चुनाव में इस ज्वलंत मुद्दे के लिए उन्होंने वोट का बहिष्कार करने का बिगुल फूंक दिया है। सैकड़ों स्त्री-पुरुषों ने एक बैनर तले ‘बिजली नहीं तो वोट नहीं’ का नारा लगाते हुए बाइपास, चतरा, गया मोड़, प्रखंड मुख्यालय, वकीलगंज तक रैली निकाली। रैली का नेतृत्व कर रहे बाईपास के ग्रामीण रामजतन यादव, देवंती देवी, उपेन्द्र कुमार, सुरश मंडल इत्यादि ने बताया कि गांव के लोगों से ही पावर सब स्टेशन निर्माण के लिए जमीन ली गई। पावर सब स्टेशन चालू हो गया। पावर सब स्टेशन से गांव की दूरी मात्र पांच सौ मीटर है।ड्ढr ड्ढr डोभी में वर्षो से बिजली जल रही है मगर आज तक उनका गांव अंधेर में है। इसे लेकर शेरघाटी के एसडीओ, सांसद, क्षेत्रीय विधायक व अन्य राजनेताओं के पास उनलोगों ने आवेदन भी सौंपे। उन्हें अब तक सिर्फ आश्वासन मिलता रहा पर समस्या दूर नहीं हुई। शेरघाटी के एक पदाधिकारी ने गांव के ग्रामीणों से 15 हाार रुपए चंदा किया और अपनी जेब गरम कर ली। गांव में बिजली समेत पानी, सड़क, नाली, शिक्षा, रोगार इत्यादि की कमी है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बिजली नहीं तो वोट नहीं