अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हरिद्वार में सूर्य ग्रहण पर लाखों ने गंगा स्नान किया

उत्तराखंड के हरिद्वार में हरकी पौडी पर आज सूर्य ग्रहण के मौके पर लाखों श्रद्धालुओं ने स्नान किया। सूर्य ग्रहण गंगा स्नान व श्रवणी अमावस्या के कारण हरकी पौडी पर पांव रखने की भी जगह नहीं बची थी।

सूर्यग्रहण के समय हालांकि यहां बादल छाए रहे और लोगों को सूर्य ग्रहण का अद्भुत दृश्य देखने से वंचित होना पडा़ पर बीच में हल्की सी रोशनी जरुर दिखाई पडी। इस लुका छिपी के दृश्य को देखने के लिए हरिद्वार के गंगा तट पर लाखों श्रद्धालुओं का हुजूम सुबह चार बजे से ही लगना शुरु हो गया था।

पौराणिक मान्यताओं परंपराओं के अनुरुप कल शाम पांच बजे से ही विभिन्न प्राचीन मंदिरों के कपाट श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए बंद कर दिए गए थे। मंदिरों में सायं कालीन आरती भी पहले ही यानि शाम पांच बजे कर दी गई थी।

हरकी पौडी पर भी कल शाम की प्रसिद्ध गंगा आरती शाम पांच बजे ही कर दी गई थी। हरकी पौडी की कार्यकारणी संस्था गंगा सभा के 100 सालों के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि गंगा की सायंकालीन आरती सूर्यास्त से पहले की गई हो।

ज्योतिषियों एवं पुरोहितों ने पहले ही घोषणा कर दी थी कि ग्रहण से पहले 12 घन्टों से पूर्व ही सूतक लग जाएगा। ऐसी मान्यता है कि सूतक में शुभ कार्य, पूजा अर्चना निषेध है और ऐसी पूजा अर्चना निष्फल मानी जाती है।

हरकी पौडी़ पर उभरी भारी भीड़ के कारण गंगा की आरती निर्धारित स्थान पर नहीं हो सकी और गंगा सभा के कार्यालय के बाहर ही आरती कर दी गई। क्योंकि भारी भीड़ के कारण गंगा की डोली घाट पर किनारे पर नहीं ले जाई जा सकी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हरिद्वार में सूर्य ग्रहण पर लाखों ने गंगा स्नान किया