DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बादल छाए रहने से तरेगना पहुंचे लोग हुए निराश

इस सदी का सबसे लंबा समय तक लगने वाला सूर्यग्रहण को अधिक समय तक देखने की लालसा में बिहार के तरेगना पहुंचे वैज्ञानिकों और खगोलविदों को बुधवार को उस समय काफी निराशा हुई जब पटना और तरेगना में सुबह के समय बादल छाए रहे।

गौरतलब है कि बुधवार को मसौढ़ी अनुमंडल के तारेगना में 3.48 मिनट तक पूर्ण सूर्यग्रहण को देखने के लिए देश तथा विदेश के खगोलविदों तथा वैज्ञानिकों समेत सैकड़ों लोग तारेगना पहुंचे थे।

बिहार में अधिकांश जगहों पर बादल छाए रहने के कारण आकाश में इस नजारे को देखने से लोग वंचित रह गए। हालांकि पूर्णिया, सहरसा तथा गया सहित कुछ क्षेत्रों के लोगों ने पूर्ण सूर्यग्रहण देखने का लोगों ने जमकर लुत्फ उठाया।

इधर, पिछले दो दिनों से पटना तथा तरेगना में डेरा जमाए दिल्ली के स्पेस सेंटर के वैज्ञानिक विक्रांत मंडल ने बुधवार को कहा कि बादल रहने के कारण वैज्ञानिकों को निराशा हुई। हालांकि उन्होंने कहा कि पूर्ण सूर्यग्रहण के बाद आसमान से बादल छंट गए थे इस कारण कुछ समय तक सूर्यग्रहण को देखा जा सका।

तरेगना के अलावे पटना के गांधी मैदान, श्रीकृष्ण विज्ञान केन्द्र तथा तारामंडल में भी सूर्यग्रहण देखने के लिए इंतजाम किए गए थे। सूर्यग्रहण के सेंट्रल लाईन पर होने के कारण तरेगना से सूर्यग्रहण अधिक समय तक देखा जाना था। बुधवार को बिहार में सूर्यग्रहण लगभग साढ़े पांच बजे सुबह से शुरू होकर  7.25 बजे तक रहा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बादल छाए रहने से तरेगना पहुंचे लोग हुए निराश