अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सूर्यग्रहण कहीं छीन ना ले आंखों की रोशनी, बरतें सावधानी

सूर्यग्रहण के दौरान बरती गई थोड़ी सी लापरवाही आम लोगों को भारी पड़ सकती है। साइबर सिटी के नेत्र रोग विशेषज्ञों की मानें तो बिना किसी सावधानी के सूर्यग्रहण देखने की उत्सुकता लोगों की आंखों की रोशनी जीवनभर के लिए भी छीन सकती है। अक्सर सूर्यग्रहण के बाद इसके प्रकोप से आंखों को नुकसान पहुंचने के मामले सामने भी जरुर आते हैं।


बुधवार सुबह करीब पांच बजकर 24 मिनट से गुड़गांव में सूर्यग्रहण की शुरूआत होगी। विशेषज्ञों के अनुसार सुबह दस बजे तक इसकी छाया बनी रहेगी। शुरूआती कुछ घंटों के दौरान इसका प्रभाव अधिक रहेगा। ऐसे में जरुरत है सूर्यग्रहण के दुष्प्रभाव से अपने आपको बचाने की। सुशांत लोक स्थित पारस अस्पताल के नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉक्टर संजय वर्मा के अनुसार कई लोग सूर्यग्रहण देखने का शौक रखते हैं। मगर, इस बात का ख्याल बिल्कुल नहीं रखतें कि ग्रहण के सीधे संपर्क में आने से उनकी आंखों को नुकसान पहुंच सकता है। उनके अनुसार अन्य दिनों की तुलना में सूर्यग्रहण के दौरान अल्ट्रा-वायलेट रेज करीबन 60 फीसदी तक बढ़ जती है। नतीजतन जब कोई व्यक्ति बिना किसी सावधानी के सूर्यग्रहण देखता है, तो इससे रेटिना पर दुष्प्रभाव पड़ता है। जिसे किसी भी तरह के इलाज के बाद ठीक नहीं किया ज सकता है। इस वजह से व्यक्ति स्थाई अंधेपन का शिकार हो सकता है। डॉ. अजय शर्मा के अनुसार जो लोग सूर्यग्रहण देखना ही चाहते हैं। उन्हें हाई फिल्टर अल्ट्रा-वायलेट सन ग्लासेज का इस्तेमाल करना चाहिए। बच्चों को भी पहले से ही इससे बचने की जानकारी देनी चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सूर्यग्रहण कहीं छीन ना ले आंखों की रोशनी, बरतें सावधानी