अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लैटर के जरिए एमिटी ने भेजा स्पष्टीकरण

जांच पड़ताल के बाद आज होगा फैसला मनमानी
 -- जिला प्रशासन की मीटिंग में नहीं पहुंचा एमिटी मैनेजमेंट
-- देर शाम एडीआईओएस को भेज लैटर के जरिए स्पष्टीकरण
-- स्कूल के अड़ियल रवये को लेकर पैरेंट्स ने दिया ज्ञापन

जिला प्रशासन द्वारा एमिटी इंटरनेशनल स्कूल व पैरेंट़्स की संयुक्त मीटिंग में स्कूल मनेजमेंट नहीं पहुंचा। बढ़ी हुई फीस पर स्कूल से मांगे गए जबाव के अंतिम दिन एडीआईओएस ने स्कूल को स्पष्टीकरण के साथ तलब किया था। लेकिन मीटिंग में पहुंचने के बजाय देर शाम स्कूल ने लैटर के जरिए स्पष्टीकरण विभागीय दफ्तर में भेज दिया। एडीआईओएस महेश चंद्र ने कहा कि लैटर की जंच पड़ताल के बाद ही कोई फैसला लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर स्कूल फिर भी नहीं मानता है तो एनओसी वापसी के आर्डर शासन को भेज दिए जाएंगे।


गौरतलब है कि शासनादेश के बाद बढ़ी हुई फीस लेने पर एमिटी स्कूल को तीन दिन में स्पष्टीकरण देने का नोटिस जारी हुआ था। स्कूल से मांगे गए जवाब के आखिरी दिन एडीआईओएस ने स्पष्टीकरण के साथ स्कूल मैनेजमेंट को तलब किया था। मीटिंग में एमिटी पैरेंट्स को भी बुलाया गया था।  स्कूल मैनेजमेंट प्रशासन के आदेशों की फिर से अवहेलना करते हुए मीटिंग में शामिल नहीं हुआ। जिसे एडीआईओएस ने गंभीरता से लिया है।


हालांकि स्कूल ने देर शाम लैटर के जरिए डीआईओएस दफ्तर स्पष्टीकरण भेज दिया। लेकिन स्पष्टीकरण में स्कूल ने क्या जवाब भेजा है,इस संबंध में एडीआईओएस ने जांच के बाद कुछ बताने के लिए कहा।  एडीआईओएस महेश चंद्र ने कहा कि अगर स्कूल की ओर से कोई वाजिब जवाब नहीं मिलता है तो उसकी एनओसी वापसी के आर्डर जरी कर दिए जाएंगे। वहीं मीटिंग में शामिल होने पहुंचे पैरेंट्स ने स्कूल के खिलाफ निर्णायक कार्रवाई के लिए एडीआईओएस को ज्ञापन सौंपा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लैटर के जरिए एमिटी ने भेजा स्पष्टीकरण