DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूर्ण सूर्यग्रहण

आज पूर्ण सूर्यग्रहण है। दुनिया के कई हिस्सों में यह पूरी तरह दिखाई देगा तो कई हिस्सों में आंशिक तौर पर। गौर करने वाली बात यह है कि यह सदी का सबसे लंबा सूर्यग्रहण होगा। जरूरी बात यह भी है कि इस एक माह के दौरान तीन ग्रहण पड़ रहे हैं।

ग्रहण के प्रकार
सूर्यग्रहण के दौरान सूर्य और पृथ्वी के बीच चांद आ जाता है, लेकिन जब पूरी तरह से चांद सूरज को ढक लेता है, तो पूर्ण सूर्यग्रहण की स्थिति पैदा होती है। आमतौर पर वलयाकार सूर्यग्रहणों की अवधि लंबी होती है, लेकिन पूर्ण सूर्यग्रहण तीन-चार मिनट से ज्यादा लंबे नहीं होते। तकरीबन वर्ष में दो से पांच सूर्यग्रहण पड़ते हैं, लेकिन सूर्य की छाया पृथ्वी की जिस दिशा में होती है, वहीं यह नजर आता है। साथ ही यह भी जरूरी नहीं है कि हर बार सूर्यग्रहण का प्रभाव पृथ्वी पर दिखाई पड़े। चार तरह के सूर्यग्रहण होते हैं। आंशिक, वलयाकार, हाइब्रिड तथा पूर्ण।

डायमंड रिंग
पूर्ण सूर्यग्रहण के दौरान सूर्य के अंधेरे में डूबने से पहले सूरज के किनारे पर रोशनी के टुकड़े दिखाई देते हैं, ये माला के मोतियों जसे लगते हैं। इसे बेलीबीड्स कहते हैं। बेली बीड्स का ही एक चमकदार मोती रह जता है, जो देखने में हीरे की अंगूठी जसा लगता है। इसे डायमंड रिंग कहते हैं। डायमंड रिंग देखने का अद्भुत नजरा पूर्ण सूर्यग्रहण के शुरुआत और अंतिम के दौरान  देखने में आता है।

यानी जब चांद, सूर्य को ढक रहा होता है और जब  सूर्य चांद की छाया से बाहर निकल रहा होता है। इस दौरान सूर्य एक काली तश्तरी की तरह दिखाई देता है। लेकिन पूर्ण सूर्यग्रहण का सबसे बड़ा और रोचक नजारा इसमें बनने वाला डायमंड रिंग है। सूर्यग्रहण की मुख्यत: दो छाया होती हैं अम्ब्रा और पेनुंब्रा। पूर्ण सूर्यग्रहण अंब्रल शेडो के अंदर दिखाई देता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पूर्ण सूर्यग्रहण