अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वाराणसी में सूर्य ग्रहण देखने वालों का हुजूम उमड़ा

21वीं सदी में सबसे लम्बे अंतराल वाले सूर्य ग्रहण को धार्मिक नगरी वाराणसी में गंगा तट से देखने के लिए बड़ी संख्या में सैलानी यहां पहुच रहे हैं।
 

शहर के कई बड़े होटलों के साथ साथ गंगा किनारे बने होटल पूरी तरह से भर चुके हैं। ज्योतिष और खगोल विज्ञान में रूचि रखने वाले सैलानी बड़ी बड़ी दूरबीनों के साथ यहां पहुंच रहे हैं। बुधवार सुबह सदी के पहले पूर्ण सूर्यग्रहण के दौरान एक ओर जहां आस्थावान गंगा में डुबकी लगाकर पुण्य लाभ के भागी बनेंगे वहीं दूसरी ओर वैज्ञानिकों का दल सूर्य ग्रहण के एक एक पल का अध्ययन करता नजर आएगा। हालांकि मौसम को लेकर वैज्ञानिक चिंतित भी हैं। उनका मानना है कि यदि मौसम ने साथ नहीं दिया तो यहां से आंकड़े एकत्र करने में निश्चित तौर पर बाधा आएगी।

काशी हिन्दू विश्व विद्यालय में भौतिकी के विभागाध्यक्ष प्रो.बी.एन. द्विवेदी के अनुसार कल प्रात छह बजकर 24 मिनट से छह बजकर 27 मिनट यानी करीब तीन मिनट से कुछ अधिक समय तक सूर्य पूरी तरह से छिप जाएगा।
 ब्रिटिश ब्राडकास्टिंग कारपोरेशन (बीबीसी) 22 जुलाई को होने वाले सदी के सबसे बड़े सूर्यग्रहण पर डाकूमेंन्ट्री फिल्म बनाएगा। इसके लिए बीबीसी की आठ सदस्‍ाय टीम यहां पहुंच गई है। कम्पनी के लाइजनिंग आफिसर सौरभ कुमार ने बताया कि टीम सूर्यग्रहण से जुड़े धार्मिक और वैज्ञानिक तथ्यों को जानने की कोशिश करेगी।

 कल सूर्य ग्रहण को ध्यान में रखते हुए काशी विश्वनाथ और संकट मोचन सहित नगर के कई मंदिर बन्द रहेंगे।
जिलाधिकारी ए.के .उपाध्याय के अनुसार प्रात कालीन संचालित सभी विद्यालय कल बंद रहेंगे। पूर्वान्ह नौ बजे या उसके बाद से संचालित विद्यालय पूर्व निर्धारित समयानुसार खुलेंगे। सूर्य ग्रहण के अवसर पर गंगा में स्नान करने वाले भक्तों का आगमन वाराणसी में शुरू हो गया है। बड़ी संख्या में लोग घाटों पर पहुंच रहे हैं। धार्मिक नगरी जहां कांवरियों समेत अन्य शिव भक्तों से पटी पड़ी है। हरि ओम एवं हर हर महादेव के नारे गूंज रहे हैं वहीं कल सूर्य ग्रहण पर स्नान करने वालों का तांता लगा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वाराणसी में सूर्य ग्रहण देखने वालों का हुजूम उमड़ा