अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कवि गोवर्धन गब्बी का कहानी लेखन में प्रवेश

सोहणी सिटी के कवि गोवर्धन गब्बी ने अपनी पुस्तक, गुरदखणा के माध्यम से कहानी लेखन में प्रवेश कर लिया है। इससे पहले गोवर्धन के पंजबी में दो काव्य संग्रह, दिलवाली फटड़ी व अतीत दे सरनामें पाठकों के बीच आ चुके हैं। वीरवार को चंडीगढ़ प्रेस क्लब में पुस्तक का विमोचन किया गया।

गोवर्धन ने बताया कि इस पुस्तक में विभिन्न मुद्दों पर आधारित दस कहानियां शामिल हैं। कहानी घुमणघेरी में बताया गया कि आज के समय में लोग सामाजिक,पारिवारिक व अधिकारिक क्षेत्रों की घूमनघेरियों में इस तरह फंस गए हैं कि वहां से बाहर आने का रास्ता उन्हें दिखाई नहीं दे रहा।

इसी तरह कहानी गुरुदखणा में बताया गया है कि विधायक व साहित्यिक अदारों में गिरावट आ रही है। लोगों का चरित्र गिर रहा है और वे भ्रष्टाचार हो रहे हैं। इसी तरह युवा पीढ़ी पर कटाक्ष करती कहानी बुझरता एक्सट्रा-मैरिटल रिश्तों पर आधारित है।

कहानी के माध्यम से बताया गया है कि कुछ देर के मन के सुकून के लिए लोग एक-दूसरे के कंधे का सहारा ले रहे हैं। परौणा कहानी समलैंगिक  समस्या पर आधारित है। यह पुस्तक लोकगीत प्रकाशन चंडीगढ़ ने प्रकाशित की है और इसका मूल्य150 रुपये है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कवि गोवर्धन गब्बी का कहानी लेखन में प्रवेश