अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पश्चिम बंगाल: आइला के बाद महामारी का कहर

पश्चिम बंगाल: आइला के बाद महामारी का कहर

पश्चिम बंगाल में आइला के गुजर जाने के 50 से भी अधिक दिन बीत जाने के बावजूद संक्रमित पानी पीने के कारण तूफान पीड़ित लोग अतिसार और त्वचा रोगों से जूझ रहे हैं।

डॉक्टरों को डर है कि सुंदरबन के गांवों से पानी उतरने के बाद जल-जनित रोगों से पीड़ितों की संख्या और बढ़ जाएगी। उत्तरी 24 परगना जिले के संदेशखाली-1 ब्लॉक के ब्लॉक चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अनिरबान सिन्हा ने कहा कि तूफान शिविरों से ग्रामीणों के घर लौटने के बाद अतिसार के रोगियों की संख्या में बढ़ोतरी होगी क्योंकि वे गांव के पानी में डूबे रहे ट्यूब वैल से पानी पीएंगे।

उन्होंने कहा कि मवेशियों के शवों और टूटे हुए पेड़ों के कारण समस्या और बढ़ गई है। प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में 25 मई को आइला तूफान और इसके बाद बाढ़ आने के बाद से हर रोज तकरीबन ऐसे 8-10 मामले सामने आ रहे हैं।

यूनिसेफ के अनुसार 28 लोगों की अतिसार के कारण मत्यु हो चुकी है जबकि आइला प्रभावित उत्तरी और दक्षिणी 24 परगना में 85, 000 से अधिक लोग इस रोग से प्रभावित हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पश्चिम बंगाल: आइला के बाद महामारी का कहर