अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सजने को है दूल्हा-दुल्हन

सजने को है दूल्हा-दुल्हन

भारतीय संस्कृति और विरासत में शादी-ब्याह से जुड़े आयोजनों और उत्सव के सीजन की बड़ी अहमियत होती है। इसीलिए जब जुलाई के अंत में इस तरह की तैयारियों की दस्तक सुनाई पड़ती है तो सबसे पहले विवाह और ब्राइडल एशिया जैसे बड़े वेडिंग ईवेन्ट्स का ख्याल आता है। हालांकि इस कड़ी में ब्राइड एंड ग्रूम जैसा ईवेन्ट भी शामिल है, जो हाल ही में दिल्ली से अपना कारवां शुरू कर चुका है। ब्राइड एंड ग्रूम ने सबसे पहले इस सीजन को भांपते हुए शादियों के मौसम की जरूरी खरीदारी से संबंधित साजो-सामान की एक्जिबिशन लॉन्च की, जिसमें दिल्लीवालों का उत्साह देखते ही बनता था। जो लोग इसमें शिरकत करने से चूक गये, उन्हें निराश होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि विवाह और जीवनशैली से संबंधित दो बड़े आयोजनों के अलावा दिल्ली में अभी और भी बहुत कुछ होना बाकी है।

आने वाला अगस्त का महीना और सितंबर का पहला एवं दूसरा सप्ताह इसी के लिए बुक समझिये। यही कारण है कि न केवल राजधानी के फैशन डिजाइनर, बल्कि देश के अन्य हिस्सों में बसे फैशन डिजाइनर भी अपने-अपने ब्राइडल कलेक्शन को अंतिम रूप देने में जुट गये हैं। फैशन डिजाइनरों के ब्राइडल संग्रहों, ट्रजो और कोतूर संग्रहों में भारतीय परंपरागत शैली के साथ-साथ मॉडर्न टच भी देखा जा रहा है। हाल ही में संपन्न ब्राइड एंड ग्रूम एक्जिबिशन में जब भारतीय फैशन डिजाइन उद्योग के कुछ जाने-माने फैशन डिजाइनरों, जैसे नीता भार्गव, वरुण बहल, आशीष पांडे, कविता भरतिया, गीशा डिजाइंस, सत्य पाल, पायल जैन, अंजना भार्गव आदि ने अपने ब्राइडल संग्रह, ट्रजो और कोतूर संग्रहों को पेश किया तो एक बार को लगा कि इस साल शादी-ब्याह के अटूट बंधन में बंधने जा रहे युवक-युवतियां पहले से कहीं ज्यादा आकर्षक और सजीले लगेंगे।

इन डिजाइनर आउटफिट्स के साथ मैच करते जेवर और एक्सेसरीज के लिए इससे जुड़े डिजाइनर्स ने कमर कस ली है। राजधानी के तमाम ज्वेलरी डिजाइनर्स इन दिनों अपने अपने नए कलेक्शंस लॉन्च करने में जुटे हैं। हाल ही में तनिष्क ने भी अपना संग्रह लॉन्च किया। कहा जा सकता है कि बाजार ने अगस्त का इंतजार न करते हुए इस बार काफी पहले से ही तैयारी शुरू कर दी है। इस कड़ी में बाजार और शादी-ब्याह की खरीदारी करने को आतुर लोग अब अगस्त के पहले सप्ताह में होने वाली विवाह एक्जिबिशन का इंतजार कर रहे हैं। जी हां, साल के कैलेंडर की सबसे बड़ी प्रदर्शनी अगले महीने होटल अशोक में आयोजित होने जा रही है। यह एक्जिबिशन 1 से 3 अगस्त तक चलेगी। गौरतलब है कि सेलिब्रेटिंग विवाह राजधानी के साथ-साथ पूरे देश में आयोजित किये जाते हैं। इनके लिए फैशन डिजाइनर्स, ज्वेलरी डिजाइनर्स, एक्सेसरीज डिजाइनर्स, ट्रैवल एजेंसीज और वेडिंग शॉपिंग से जुड़े लोग काफी पहले से तैयारियों में जुट जाते हैं। इस साल भी इस एक्जिबिशन में कई बड़े डिजाइनरों के शामिल होने की संभावना जताई गयी है। तीन दिन तक चलने वाली इस एक्िजबिशन में फैशन डिजाइनरों के अलावा ज्वेलरी डिजाइनर भी भाग लेंगे। इसके अलावा आप यहां शादी-ब्याह से जुड़ी हर वो खरीदारी कर सकेंगे, जिसके लिए मिनट-मिनट में बाजार के चक्कर लगाने पडम्ते हैं। डिजिटल फोटोग्राफी से लेकर वेडिंग प्लानर और बैंड वालों से लेकर कैटरिंग, गिफ्टिंग और पैकेजिंग तक के स्टाल्स आपको यहां देखने को मिलेंगे। बीते करीब आठ-दस वर्षो में राजधानी में इस तरह की एक्जिबिशंस का काफी बोलबाला है, जहां एक ही छत के नीचे वेडिंग शॉपिंग की जा सकती है।

राजधानी में दूसरा बड़ा आयोजन ब्राइडल एशिया के रूप में होगा, जिसमें बात शुरू होगी दुल्हा और दुल्हन के परिधानों से। पहरावे और फैशन स्टेटमेंट के लिहाज से फैशन का यह एक कारवां कुछ अलग मायने रखता है। इसमें देसी फैशन डिजाइनरों के अलावा पाकिस्तान और बंगलादेश के फैशन डिजाइनर भी भाग लेते हैं। पिछले कई वर्षो में देखा गया है कि दुल्हनों में पाकिस्तानी शरारा और बंगलादेशी कलाकारी के प्रति काफी रुझान बढम है। ब्राइडल ट्रजो के क्षेत्र में यह आयोजन काफी महत्त्वपूर्ण माना जाता है। इस शो में आप रितु बेरी और सब्यासाची के अलावा राघवेन्द्र राठौडम् और मीरा मुजफ्फर अली जैसे वरिष्ठ डिजाइनरों के संग्रहों से रु-ब-रू हो सकेंगे। यह शो भी दिल्ली के अशोका होटल में आयोजित होगा। हाल ही में इस शो का एक स्नीक पीक दिल्ली में आयोजित किया गया। इस मौके पर पेज 3 सेलेब्स की शिरकत ने यह साबित कर दिया कि आने वाला वेडिंग सीजन कितना ग्लैमरस होगा।भारतीय संस्कृति और विरासत में शादी-ब्याह से जुड़े आयोजनों और उत्सव के सीजन की बड़ी अहमियत होती है। इसीलिए जब जुलाई के अंत में इस तरह की तैयारियों की दस्तक सुनाई पड़ती है तो सबसे पहले विवाह और ब्राइडल एशिया जैसे बड़े वेडिंग ईवेन्ट्स का ख्याल आता है। हालांकि इस कड़ी में ब्राइड एंड ग्रूम जैसा ईवेन्ट भी शामिल है, जो हाल ही में दिल्ली से अपना कारवां शुरू कर चुका है। ब्राइड एंड ग्रूम ने सबसे पहले इस सीजन को भांपते हुए शादियों के मौसम की जरूरी खरीदारी से संबंधित साजो-सामान की एक्जिबिशन लॉन्च की, जिसमें दिल्लीवालों का उत्साह देखते ही बनता था। जो लोग इसमें शिरकत करने से चूक गये, उन्हें निराश होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि विवाह और जीवनशैली से संबंधित दो बड़े आयोजनों के अलावा दिल्ली में अभी और भी बहुत कुछ होना बाकी है।

आने वाला अगस्त का महीना और सितंबर का पहला एवं दूसरा सप्ताह इसी के लिए बुक समझिये। यही कारण है कि न केवल राजधानी के फैशन डिजाइनर, बल्कि देश के अन्य हिस्सों में बसे फैशन डिजाइनर भी अपने-अपने ब्राइडल कलेक्शन को अंतिम रूप देने में जुट गये हैं। फैशन डिजाइनरों के ब्राइडल संग्रहों, ट्रजो और कोतूर संग्रहों में भारतीय परंपरागत शैली के साथ-साथ मॉडर्न टच भी देखा जा रहा है। हाल ही में संपन्न ब्राइड एंड ग्रूम एक्जिबिशन में जब भारतीय फैशन डिजाइन उद्योग के कुछ जाने-माने फैशन डिजाइनरों, जैसे नीता भार्गव, वरुण बहल, आशीष पांडे, कविता भरतिया, गीशा डिजाइंस, सत्य पाल, पायल जैन, अंजना भार्गव आदि ने अपने ब्राइडल संग्रह, ट्रजो और कोतूर संग्रहों को पेश किया तो एक बार को लगा कि इस साल शादी-ब्याह के अटूट बंधन में बंधने जा रहे युवक-युवतियां पहले से कहीं ज्यादा आकर्षक और सजीले लगेंगे।

 

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सजने को है दूल्हा-दुल्हन