अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्पाइस मॉल की जांच पूरी, कमियां बताने पर ऐतराज

स्पाइस मॉल में आग लगने की जांच पूरी हो गई है। मॉल के इलेक्ट्रिकल एवं फायर सिस्टम में जांच कर रहे संबंधित विभाग को कुछ कमियां भी मिली है, लेकिन संबंधित विभाग के अधिकारी जांच के बारे में कुछ भी बताने से बच रहे हैं। सेक्टर-25 स्थित स्पाइस मॉल में कुछ दिन पहले आग लगी थी उनकी वजह जानने के लिए बिजली एवं फायर विभाग स्पाइस मॉल की जांच कर रहा था। सूत्रों के अनुसार जांच कर रहे संबंधित विभाग को कुछ कमियां भी मिली है। लेकिन विभाग इन कमियों को बताने से बच रहा है। संबंधित विभाग के लोग स्पाइस मॉल की जांच रिपोर्ट पर कुछ भी बोलने से बच रहे है।


नेशनल बिल्डिंग कोड और सिनेमेटोग्राफी रूल्स के मद्देनजर सभी मॉल्स को साल में कम से कम दो बार इवेकुएशन ड्रिल टेस्ट भी ऑरगेनाइड कराना चाहिए। इस इवेकुएशन टेस्ट की ऐंट्री भी होनी चाहिए। विभाग की लापरवाही के चलते न तो इस टेस्ट की कोई अहमियत है और न ही ज्यादातर मॉल्स इसकी ऐंट्री करने की जहमत उठाते है। सभी मॉल्स को अपना फायर और इलेक्ट्रिकल सिस्टम एकदम दुरुस्त रखने चाहिए। इसके साथ ही संबंधित विभाग को इन मॉल्स के फायर और इलेक्ट्रिकल सिस्टम की जांच करनी चाहिए। लेकिन शहर का फायर और इलेक्ट्रिकल विभाग आग लगने के बाद ही हरकत में आता है। सूत्रों ने बताया की स्पाइस मॉल की जंच रिपोर्ट प्रभारी डीएम और एसएसपी को दे दी गई है लेकिन डीएम और एसएसपी ने जांच रिपोर्ट मिलने से इंकार कर दिया है।

स्पाइस मॉल के सीईओ ने बताया की हमारे मॉल का फायर सिस्टम बिल्कुल दुरुस्त है। हमने मॉल के फायर सिस्टम पर 40 लाख रुपये खर्च किये है। हालांकि प्रभारी डीएम सारिका मोहन ने बताया की मौखिक रूप से मुझे पता चला है की स्पाइस मॉल के वायर सिस्टम में कुझ कमियां मिली है। इसके साथ ही मुख्य फायर अधिकारी ने जांच में कुछ कमियां मिलने की बात को माना लेकिन जांच पर इससे ज्यादा कुछ भी बोलने से मना कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्पाइस मॉल की जांच पूरी, कमियां बताने पर ऐतराज