DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुंबई आतंकी हमले की सुनवाई का घटनाक्रम

एकमात्र जीवित आंतकवादी कसाब को 26 नवंबर को गिरगान से गिरफ्तार किया गया।
दिसंबर अंत में उज्ज्वल निकम को विशेष लोक अभियोजक नियुक्त किया गया।
जनवरी 2009 में एमएल टाहिलियानी को सुनवाई के लिए न्यायाधीश नियुक्त किया गया।
फरवरी के अंतिम सप्ताह में कसाब संबंधित 11000 पन्नों का आरोपपत्र अदालत में दाखिल किया गया।
मार्च अंत में अंजलि वाघमारे को कसाब का वकील नियुक्त किया गया। मार्च अंत में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कसाब अदालत में हाजिर हुआ।
अप्रैल के प्रथम सप्ताह में अंजलि वाघमारे को हटाया गया। मध्य अप्रैल में अब्बास काजमी को कसाब का नया वकील नियुक्त किया गया। सुनवाई 17 अप्रैल 2009 से शुरू हुई।
बीस अप्रैल को अभियोजन ने आरोपों की सूची जमा की। कसाब पर 166 लोगों की हत्या का अभियोग लगा।
आठ मई को एक गवाह ने अदालत में कसाब की शिनाख्त की।
15 मई को उन दो डाक्टरों ने कसाब की पहचान की जिन्होंने उसका उपचार किया था।
19 मई को हैदराबाद कालेज के प्रिंसीपल ने कहा कि कसाब ने फर्जी पहचान पत्र का इस्तेमाल किया।
27 मई को एक प्रत्यक्षदर्शी ने कहा कि उसने कसाब और नौ अन्य को बोट से आते देखा था।
दो जून को कसाब ने न्यायाधीश से कहा कि वह मराठी भी समझता है। दस जून को छत्रपति शिवाजी टर्मिनस के एक प्रत्यक्षदर्शी ने कसाब को पहचाना।
23 जून को विशेष न्यायाधीश ने जमात उद दावा प्रमुख हफीज सईद और लश्कर ए तैयबा के आपरेशन प्रमुख जकी उर रहमान लखवी समेत 22 भगोड़े के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया।
सात जुलाई को फोरेंसिक विशेषज्ञ अदालत के समक्ष हाजिर हुए। 16 जुलाई को अदालत ने छत्रपति शिवाजी टर्मिनस के बाहर कसाब की गतिविधियों वाले सीसीटीवी के फुटेज देखे।

बीस जुलाई को कसाब ने मुंबई हमलों में अपनी भूमिका स्वीकार की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुंबई आतंकी हमले की सुनवाई का घटनाक्रम