अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीटी योग्यताधारी भी बन पाएंगे प्रधानाध्यापक

राज्य के माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापक पद के लिए बीटी(बेसिक ट्रेनिंग) योग्याताधारियों को भी मान्यता मिलेगी। इसके लिए सरकार नियमों में संशोधन करेगी। मानव संसाधन विकास मंत्री हरिनारायण सिंह ने सोमवार को विधान परिषद में नवल किशोर यादव और वासुदेव सिंह के ध्यानाकर्षण के जवाब में कहा कि बीटी योग्याधारी जिन 41 प्रधानाध्यापकों को बी.एड की योग्यता नहीं होने के कारण डिमोट किया गया है उनकी प्रोन्नति बरकरार रहे इसके लिए राज्य सरकार नियमावली में संशोधन भी करेगी।

उन्होंने कहा कि बिहार राजकीयकृत माध्यमिक विद्यालय (प्रबंध एवं नियंत्रण ग्रहण) संशोधित अधिनियम 2004 की  धारा 10 को संशोधित करते हुए विद्यालय सेवा बोर्ड के स्थान पर प्रधानाध्यापक की नियुक्ति एवं प्रोन्नति की अनुशंसा करने की शक्ति बीपीएससी को दी गयी है। इसके तहत प्रधानाध्यापक पद पर दी गई प्रोन्नति पर बीपीएससी से अनुशंसा का अनुरोध किया गया। पर नियमावली में बीटी और एलटी योग्यता का जिक्र नहीं होने के कारण सहायक शिक्षकों को प्रोन्नति के योग्य नहीं माना गया।

आयोग से अनुशंसा प्राप्त नहीं होने पर नव प्रोन्नत 41 (31 अनुसूचित जाति और 10 सामान्य) प्रधानाध्यापकों की प्रोन्नति को रद्द कर दी गयी। इसके पहले वासुदेव सिंह ने कहा कि सरकार बीटी की योग्यता रखने वाले प्रधानाध्यापकों को सरकार इस आधार पर डिमोट कर रही है कि वे बी.एड नहीं हैं।

मंत्री के जवाब पर नवल किशोर यादव, महाचंद्र प्रसाद सिंह, केदार पाण्डेय और रामकिशोर सिंह ने सरकार से मांग की कि वह प्रमोशन के बाद प्रधानाध्यापकों का डिमोशन न करे। सभापति प्रो.अरुण कुमार ने भी कहा कि प्रधानाध्यापकों का प्रमोशन विभाग ने नियम के तहत ही किया होगा तो फिर डिमोशन कैसे हो रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बीटी योग्यताधारी भी बन पाएंगे प्रधानाध्यापक