DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एआईसीटीई

एआईसीटीई यानी ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन देश में तकनीकी शिक्षा उपलब्ध कराने वाली एक मान्यता प्राप्त सरकारी संस्था है। एआईसीटीई की टैग लाइन ‘योग: कर्मसु कौशलम्’ है, जिसका अर्थ अपने कार्य में कुशलता ही योग है। देश के विकास में तकनीकी शिक्षा की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने इसकी स्थापना नवंबर, 1945 में की थी। भारत की राष्ट्रीय शिक्षा नीति 1986 के अनुसार एआईसीटीई तकनीकी शिक्षा की योजना, निरूपण, मानक और नियमों की देखरेख, आधिकारिक मान्यता के आधार पर गुणवत्ता आश्वासन, प्राथमिकता के आधार पर फंडिंग, निगरानी और मूल्यांकन आदि के लिए उत्तरदायी है।

एआईसीटीई इंजीनियरिंग में खोज और प्रशिक्षण, तकनीकी, वास्तुशिल्प, शहरी योजना, प्रबंधन, फार्मेसी, होटल मैनेजमेंट और केटरिंग के क्षेत्र में कार्यक्रम संचालित करता है। इन विषयों पर सर्टिफिकेट, डिप्लोमा, डिग्री, पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा, पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री, रिसर्च और पोस्ट डॉक्टरेल रिसर्च स्तर पर कार्यक्रम उपलब्ध कराता है।

वर्तमान में देश में एआईसीटीई द्वारा मान्यता प्राप्त इंजीनियरिंग कॉलेजों की संख्या 1346 है। एआईसीटीई का मुख्यालय नई दिल्ली में इन्द्रप्रस्थ एस्टेट स्थित इंदिरा गांधी स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स में है। देश के विभिन्न शहरों बंगलोर, भोपाल, चंडीगढ़, मुंबई, कोलकाता, कानपुर और चेन्नई में कुल 7 क्षेत्रीय कार्यालय हैं।

एआईसीटीई के वर्तमान चेयरमैन आर. एल. यादव हैं। वसे एआईसीटीई एक्ट 1987 के 1988 में अस्तित्व में आने के बाद पहले पांच वर्ष तक इसके चेयरमैन मानव संसाधन मंत्री ही हुआ करते थे। इसके बाद पहली बार पूर्णकालिक चेयरमैन की नियुक्ित 2 जुलाई 1993 को हुई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एआईसीटीई