अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

घर पर हमला यूपी सरकार ने करवाया थाः रीता

घर पर हमला यूपी सरकार ने करवाया थाः रीता

अंतरिम जमानत पर मुरादाबाद जेल से रिहा हुई उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी ने मुख्यमंत्री मायावती के खिलाफ की गई अपनी टिप्पणी पर खेद प्रकट किया लेकिन साथ ही कहा कि उनके घर पर हमला राज्य सरकार ने करवाया था और मुख्यमंत्री को अपने पद पर रहने का कोई अधिकार नहीं रह जाता।

रीता बहुगुणा ने जेल से बाहर आने पर संवाददाताओं से कहा कि मुख्यमंत्री के खिलाफ कहे गए एक शब्द पर मैं खेद प्रकट करती हूं। मैंने सीमाएं तोड़ी थीं लेकिन जिस परिप्रेक्ष्य में वह टिप्पणी की गई थी उसे समझना चाहिए। मेरा उद्देश्य दलित महिलाओं की व्यथा को समझाना था (जिनका बलात्कार हुआ था) और मुख्यमंत्री को वह संदर्भ समझना चाहिए।

साठ वर्षीय रीता ने कहा कि महिलाओं से जुड़े मसलों को लेकर उनका संघर्ष जारी रहेगा और इसके लिए वह सौ बार भी जेल जाने को तैयार हैं। रीता को मुख्यमंत्री के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के आरोप में गत 15 जुलाई की रात गाजियाबाद से गिरफ्तार कर लिया गया था। उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत पर भेज दिया गया था और उन पर विभिन्न धाराओं में मामले दर्ज किए गए थे।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष ने उनकी टिप्पणी पर जो कुछ कहा है उससे वह सहमत हैं लेकिन उनका पूरा बयान पढ़ना चाहिए क्योंकि यह दलित महिला की समस्या से जुड़ा हुआ है। उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि राज्य सरकार ने उनके खिलाफ कुछ ऐसे प्रावधानों का उपयोग किया जो नहीं किया जाना चाहिए था। उन्होंने कहा कि देखिए मुझे दो दिन में जमानत मिली।

रीता ने कहा कि मायावती को अपने पद पर रहने का कोई अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि राज्य प्रशासन ने ऐसे परिवार से इस तरह का दुर्व्यवहार किया जो दशकों से अल्पसंख्यकों, अनुसूचित जति एवं जनजति के हित के लिए काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि उनकी मुख्यमंत्री से कोई व्यकिगत दुश्मनी नहीं है लेकिन महिला कल्याण से जुडे मुद्दों पर उनका संघर्ष जारीरहेगा। खासकर दलित महिलाओं के कल्याण के लिए वह काम करती रहेंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:घर पर हमला यूपी सरकार ने करवाया थाः रीता