DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आतंकी ढांचा खत्म करे पाकः हिलेरी

आतंकी ढांचा खत्म करे पाकः हिलेरी

अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने शनिवार को कहा कि हम भारत के साथ विश्वासपूर्ण युग में प्रवेश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के साथ वार्ता शुरू करने के लिए उनका देश भारत पर दबाव नहीं डालेगा। अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि 26 नवंबर के हमले के बाद अमेरिकी लोग भारत के साथ एकजुट होकर खड़े हैं और भारत व अमेरिका आतंकवाद के खात्मे के लिए एक साथ मिलकर काम कर रहे हैं।

हिलेरी ने पत्रकारों से कहा अमेरिका का आतंक के खिलाफ लड़ाई के सारे प्रयासों में सहयोगात्मक रवैया है। साथ ही हम भारत--पाक वार्ता को दोबारा शुरू करने के लिए किसी भी तरह से दबाव नहीं डालने वाले हैं और दोनों संप्रभु सरकारों को इस बारे में स्वयं निर्णय लेना है। दोनों देशों में वार्ता शुरू होने के प्रश्न पर उन्होंने कहा यह ऐसा मुद्दा है, जिस पर बात होनी जरूरी है और भारत को यह निर्धारित करना है कि उनके लोगों के लिए क्या सही है। उन्होंने कहा हम स्पष्ट कर चुके हैं कि अमेरिका भारत के निर्णय का स्वागत करेगा।

अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि उनका देश आतंक के खिलाफ लड़ाई के मामले में प्रतिबद्ध है। उन्होंने पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा जिनके साथ भी हमारे संबंध हैं, उनसे हम आशा रखते हैं कि वे अपनी धरती से आतंक की जड़ों को उखाड़ने के लिए मजबूत कदम उठाएंगे। हिलेरी ने कहा कि पाकिस्तान ने पिछले छह महीने में आतंक से लड़ने में प्रतिबद्धता दिखाई है। पाकिस्तान के लश्कर और जेयूडी जैसे संगठनों को सहयोग देने संबंधी प्रश्न पर उन्होंने इन दोनों समेत सभी आतंकी संगठनों को नष्ट कर देने के पक्ष में जवाब दिया।

उन्होंने कहा पिछले कुछ महीनों में हमने जो देखा है, उसके हिसाब से न केवल सरकार की ओर से, बल्कि पाकिस्तान में आतंक से लड़ने में समाज की ओर से भी कार्रवाई हो रही है। हालांकि उन्होंने कहा पाकिस्तान की ओर से आने वाले परिणामों के बारे में अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी।

अमेरिकी प्रशासन के द्विपक्षीय संबंधों को मजबूती देने की प्रतिबद्धता जाहिर करते हुए उन्होंने कहा कि भारतीय अधिकारियों के साथ बैठक में वे अर्थव्यवस्था, जलवायु परिवर्तन और आतंक के मुद्दे पर संबंध मजबूत करने का प्रयास करेंगी। भारत और चीन के कार्बन उत्सर्जन संबंधी प्रश्न पर उन्होंने कहा गरीबी उन्मूलन और कार्बन उत्सर्जन मुक्त शासन की ओर कदम बढ़ाने के मामले में कोई विरोधाभास नहीं है। उन्होंने कहा अमेरिका चाहता है कि भारत और चीन जैसे देश वैसी ही गल्तियां न करें, जैसी अमेरिका और अन्य विकसित देशों ने की।


26/11 : भावुक हुई हिलेरी
भारत की पांच दिन की यात्रा पर आई अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने शनिवार को 26 नवंबर के हमले में मारे गए लोगों स्मृति में एक समारोह में हिस्सा लिया। उन्होंने ताज और ओबेराय होटल के कर्मचारियों से मुलाकात करके गत आतंकवादी हमले की निंदा की। वह ताज होटल के अंदर मृतकों की याद में बने स्मारक देखकर अत्यंत भाव विह्वल हो गई। हिलेरी क्लिंटन ने आतंकवादी हमले में अपना एक हाथ खो चुके ताज के एक कर्मचारी को सांत्वना दी। आतंकी हमले के पीड़ितों के प्रति एकजुटता प्रदर्शित करने के लिए वह शुक्रवार को इस होटल में ठहरी थी। मुंबई हमलों में विदेशियों समेत 170 से ज्यादा लोग मारे गए थे।


उद्योगपतियों से आर्थिक मुद्दों पर चर्चा
विदेश मंत्री पद पर आसीन होने के बाद पहली बार भारत यात्रा पर आई हिलेरी ने ताज महल पैलेस और टॉवर होटल में सुबह नाश्ते के दौरान मुकेश अंबानी, जमशेद गोदरेज, पीरामल समूह की स्वाति पीरामल, इंफोसिस प्रमुख एनआर नारायणमूर्ति की पत्नी सुधा नारायणमूर्ति, आईसीआईसीआई बैंक प्रमुख चंदा कोच्चर, भारतीय स्टेट बैंक के अध्यक्ष ओपी भट्ट से मुलाकात की। इस दौरान बैठक में भारत में अमेरिका के राजदूत पीटर बर्ले भी शामिल हुए। बाद में पत्रकारों को संबोधित करते हुए हिलेरी ने कहा कि भारतीय उद्योग जगत के साथ उनकी मुलाकत सार्थक रही।

आगे का कार्यक्रम
हिलेरी क्लिंटन 19 जुलाई को नई दिल्ली रवाना होगी जहां पर उनका प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, विदेश मंत्री एसएम कृष्णा तथा विपक्ष के नेता लालकृष्ण आडवाणी से मुलाकात का कार्यक्रम हैं। इस दौरान हिलेरी भारत और अमेरिका के बीच रणनीतिक साझेदारी बढ़ाने पर चर्चा करेंगी। अपनी भारत यात्रा की समाप्ति के बाद हिलेरी 21 जुलाई को थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक के लिए रवाना हो जाएंगी। उनका 23 जुलाई को अमेरिका लौटने का कार्यक्रम है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आतंकी ढांचा खत्म करे पाकः हिलेरी