DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वर्ष 2008 में 624 को ही मिला रोजगार

बेरोजगारों के लिए कहीं से भी राहत की सूचना नहीं है। प्रदेश में दिनों दिन बढ़ती बेरोजगारी आज हर किसी के लिए समस्या बन रही है। पढ़े लिखे युवाओं की भीड़ ने प्रदेश में बेरोजगारों की फौज लाकर खड़ी कर दी है। दून क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय के आंकड़ों पर एक नज़र डालें तो वे चौंकाने वाले हैं। वर्ष 2008 में 18596 बेरोजगार युवाओं ने सेवायोजन कार्यालय में पंजीकरण करवाया। जिनमें से मात्र 624 को ही रोजगार मिल सका। विभिन्न विभागों से 149 पदों के लिए सेवायोजन कार्यालय से अभ्यर्थी मांगे गए लेकिन कार्यालय ने सिर्फ 1690 को ही सूचित किया।  

इसके विपरीत वर्ष 2007 में 9853 बेरोजगारों ने पंजीकरण करवाया। लेकिन रोजगार सिर्फ 543 को ही मिला। शहर में दिनों दिन बढ़ रही बेरोजगारी सभी के लिए चिंता का विषय है।  क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय में बेरोजगार अपना रजिस्ट्रेशन वेबसाइट पर भी कर सकते हैं। सेवायोजन अधिकारी वाईएस रावत ने बताया कि डाक द्वारा नवीनीकरण कराया जा सकता है। उन्होंने बताया कि कार्यालय किसी भी विभाग से जारी विज्ञप्ति की जनकारी अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाते हैं।
   

दून क्षेत्रीय कार्यालय में वर्ष 2009 में जून माह तक 7967 रजिस्ट्रेशन हो चुके हैं। जिनमें 10 वीं के 1796, 12वीं के 2503, ग्रेजुएशन के 1717, स्नातकोत्तर के 1243, बीएड के 317 युवाओं ने पंजीकरण करवाया है। इंजीनियरिंग में किसी ने भी पंजीकरण नहीं करवाया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वर्ष 2008 में 624 को ही मिला रोजगार