अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डीएम करेंगे निरीक्षण, सीआरओ से मांगी रिपोर्ट

डीएम एके उपाध्याय शीघ्र ही ओंकारेश्वर मंदिर स्थित महादेव तालाब का जायज लेने जाएंगे जहां तांत्रिक साधना के लिए प्रसिद्ध शुभादेक कूप को पाटकर कालोनी खड़ी कर दी गयी है। उन्होंने सीआरओ से रिपोर्ट मांगी है। कलेक्ट्रेट में जनसुनवाई के दौरान डीएम ने चिंता जतायी कि पौराणिक महत्व के तालाबों पर लगातार अतिक्रमण होते गए।

ओंकारेश्वर मंदिर के पास 10वीं सदी का पौराणिक कूप था जिसे पाटकर एकतानगर कालोनी बसा दी गयी है। पीलीकोठी स्थित धनेसरा तालाब के बड़े हिस्से को भी पाट दिया गया है। अब वहां गिट्टी-पटिया का व्यापार हो रहा है। प्रशासन के संज्ञान में आया कि तालाब के हिस्से को ही पाटकर खुद रामलीला समिति व्यावसायिक कार्य कर रही है।

यहां निजी अस्पताल व पेट्रोलपंप संचालित हो रहा है। कोयला बाजर में रूद्रवास तीर्छ कुंड का अस्तित्व भी खत्म कर दिया गया। रवीन्द्रपुरी स्थित कुरुक्षेत्र तीर्थ कुंड को पाट दिया गया है। डीएम ने सीआरओ से मौका देखने और सूर्यग्रहण के पहले सफाई कराने को कहा। अर्दलीबाजर स्थित महावीर मंदिर के पास प्राचीन तालाब को हर हाल में पुनर्जीवित करने पर जोर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पौराणिक महत्व के तालाबों का अस्तित्व ही मिटा दिया