अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वर्ष 2012 तक प्राथमिक और मध्य विद्यालयों के अपने भवन

हाई स्कूलों में प्रधानाध्यापकों के 942 पदों पर नियुक्ति के लिए बिहार लोक सेवा आयोग(बीपीएससी) को अनुरोध किया गया है। मानव संसाधन विकास मंत्री हरिनारायण सिंह ने शुक्रवार को विधान परिषद में नीरज कुमार के तारांकित प्रश्न के जवाब में यह घोषणा की।

मंत्री ने कहा कि पदों को भरने के लिए बीपीएससी से उन्होंने स्वयं बातचीत की है। दिसंबर तक प्रधानाध्यापकों के रिक्त पदों को भर दिया जाएगा। मंत्री ने कहा कि जिन स्कूलों में स्थायी प्रधानाध्यापक नहीं हैं वहां वरीय शिक्षकों को प्रभारी प्रधानाध्यापक बनाया गया है। दूसरी ओर उन्होंने कहा कि नौबतपुर प्रखण्ड के प्रोजेक्ट कन्या उच्च विद्यालय में प्रभारी प्रधानाध्यापक पर अगर गबन का आरोप है तो उसकी जांच करायी जाएगी और उन्हें हटाया जाएगा।

वहीं नवल किशोर यादव के तारांकित प्रश्न के जवाब में मंत्री ने कहा कि वर्ष 2012 तक राज्य के सभी प्राथमिक और मध्य विद्यालयों का कम से कम 10 कमरों का अपना भवन होगा। मंत्री ने कहा कि पटना जिले में 418 प्राथमिक और मध्य विद्यालय ऐसे हैं जिनके पास जमीन नहीं है। उन्हें वकल्पिक व्यवस्था के तहत चलाया जा रहा है।

नरेन्द्र प्रसाद सिंह के तारांकित प्रश्न के जवाब में मंत्री ने कहा कि सीबीएसई के पैटर्न पर माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों को भी उत्तर पुस्तिका के मूल्यांकन के लिए दी जानी वाली अगर बढ़ायी जा सकती है तो सरकार उसे बढ़ाएगी।

विनोद कुमार चौधरी के तारांकित प्रश्न के जवाब में मंत्री ने कहा कि विश्वविद्यालय कर्मियों का 300 दिनों के अर्जित अवकाश के लिए विभागीय आदेश का किस विश्वविद्यालयों में किस स्तर पर पालन नहीं हो रहा है सरकार इसे देखेगी।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:942 प्रधानाध्यापकों की नियुक्ति के लिए बीपीएससी से अनुरोध