DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीएचयू आईटी को आईआईटी बनाने का रास्ता साफ

काशी हिंदू विश्वविद्यालय के प्रौद्योगिकी संस्थान आईटी को आईआईटी का दर्जा दिये जाने के लिए केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से सुझाए गए सभी प्रस्तावों पर विश्वविद्यालय की कार्यकारिणी ने अपनी सहमति दे दी है। जिससे बीएचयू आईटी को आईआईटी का दर्जा दिये जाने का रास्ता साफ हो गया है।
 

कार्यकारिणी द्वारा पारित प्रस्ताव के अनुसार बीएचयू में गठित होने वाले आईआईटी में विश्वविद्यालय के कुलपति को—चेयरमैन होंगे जबकि चेयरमैन आईआईटी कौंसिल का होगा। कार्यकारिणी परिषद की ओर से लिए गए इस फैसले के बाद आईआईटी का दर्जा देने संबंधी जरूरी संशोधित प्रस्ताव मंत्रालय भेजने की तैयारी हो रही है ।
 
विश्वविद्यालय के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बीएचयू आईटी को आईआईटी का दर्जा दिये जाने के लिए कुछ संशोधन केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से प्राप्त हुए थे। इन प्रस्तावों को विश्वविद्यालय कार्यकारिणी परिषद ने स्वीकार कर लिया है जिससे बीएचयू आईटी कैसे आईआईटी का दर्जा मिलने का रास्ता लगभग साफ हो गया है।


नये प्रस्तावों के अनुसार आईआईटी विश्वविद्यालय के वाराणसी परिसर में ही होगा। इसके लिए जगह चिन्हित करने और अन्य मसलों पर निर्णय भारत सरकार से आईआईटी का दर्जा दिये जाने संबंधी प्रस्ताव स्वीकृत होने के बाद लिया जाएगा । विश्वविद्यालय परिसर से आईआईटी को हटाने का मसला समाप्त हो गया है क्योंकि भारत सरकार ने विश्वविद्यालय परिसर न बदलने का प्रस्ताव भेजा है। विश्वविद्यालय में कार्यकारिणी परिषद की ओर से पारित संशोधन को आज मंत्रालय भेजने की तैयारी हो रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बीएचयू आईटी को आईआईटी बनाने का रास्ता साफ