DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डीएम का ड्रीम प्रोजेक्ट है कस्तूरबा गांधी विद्यालय

डीएम आर रमेश कुमार ने बेसिक शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ हुई मीटिंग में कहा कि जिले में कस्तूरबा गांधी विद्यालयों का निर्माण और उसके माध्यम से लड़कियों को मिलने वाली शिक्षा उनका ड्रीम प्रोजेक्ट है। वे चाहते हैं कि इन विद्यालयों के निर्माण में कोई देरी ना हो। इसके लिए उन्होंने इन विद्यालयों का निर्माण कर रही दोनों एजेंसियों को अल्टीमेटम दे दिया है।


तीन विद्यालयों का निर्माण कर रही आवास विकास परिषद् को डीएम ने कड़े शब्दों में आदेश दिए हैं कि वे अपनी कार्य गति बढ़ाएं और किसी भी किमत पर अगस्त के दूसरे सप्ताह तक बिल्डिंग बेसिक शिक्षा विभाग के हवाले कर दें। इसके साथ ही उन्होंने लोनी, मुरादनगर, पिलखुवा और हापुड़ नगर क्षेत्र में बनने वाले नए विद्यालयों का निर्माण कार्य रूरल इंजिनियरिंग सर्विसेज को सौंपा। तथा उन्हें कहा कि वे अक्तूबर अंत तक काम पूरा कर लें। मीटिंग में उन्होंने कहा कि कस्तूरबा गांधी विद्यालय जिले के गरीब तबके के लिए वरदान है। इन स्कूलों के कारण  वो सभी लड़कियां जो गरीबी के कारण स्कूल नहीं जा पाती हैं उन्हें पढ़ने को मिल रहा है।
बीएसए राजेश श्रीवास का कहना है कि जिलाधिकारी ने मीटिंग में सबसे ज्यादा जोर कस्तूरबा गांधी विद्यालयों के निर्माण और उसकी शिक्षा पर दिया। उनका कहना था कि सभी कस्तूरबा गांधी विद्यालयों में सौ-सौ लड़कियां हों ताकि उन सभी को शिक्षा मिल सके जो गरीबी के कारण पढ़ नहीं पा रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डीएम का ड्रीम प्रोजेक्ट है कस्तूरबा गांधी विद्यालय