DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्रेन पलटने पर स्कूल की दीवार हो जाती क्षतिग्रस्त

जमरूदपुर गांव में मेट्रो हादसे के बाद राहत कार्य में जुटी एक क्रेन बुधवार की शाम ब्लू बेल्स इंटरनेशनल स्कूल के बाहर जमीन में धंस गई। क्रेन का संतुलन बिगड़ने पर चालक बाहर कूदा जिससे की एक और हादसा होते-होते टल गया। फिर दूसरी क्रेन को बुलाकर धंसी क्रेन को बाहर निकाला गया। मतलब साफ है कि राहत कार्य में जुटे मजदूरों की राह आसान नहीं है।


जमरूदपुर में लगातार दो दिन हुए हादसे को लेकर दिन-रात इंजीनियर और मजदूर मलबा हटाने के कार्य में जुटे हुए हैं। गत रविवार और सोमवार को हुए हादसे को ध्यान में रखकर काफी छोटी-बड़ी क्रेनों का इंतजम किया गया है। यहां बुधवार की शाम चार बजे एक क्रेन ब्लू बेल्स स्कूल के रास्ते दुर्घटनास्थल की तरफ जा रही थी। तभी अचानक ड्राइवर साइड की तरफ से क्रेन का एक हिस्सा जमीन में जा धंसा। देखते ही देखते क्रेन का एक टायर जमीन में पूरी तरह से बैठ गया। क्रेन के ड्राइवर ने काफी प्रयास किया, लेकिन क्रेन का धंसा पहिया बाहर नहीं निकला। क्रेन का संतुलन बिगड़ता देख ड्राइवर उसे बंद कर बाहर कूद गया। फिर तुरंत पीछे खड़ी एक बड़ी क्रेन को बुलाकर फंसी क्रेन में कूंडा डाला गया। काफी मशक्कत के बाद क्रेन को जैसे-तैसे बाहर निकाला गया। वरना क्रेन के पलटने से स्कूल की दीवार भी क्षतिग्रस्त हो सकती थी। इस तरह यहां पर बुधवार को एक और हादसा होते-होते टल गया।


जमीन पर लटके हुए सेगमेंट और लांचर को हटाने का काम अभी जारी है। इसके लिए सेगमेंट के नीचे रेत के कट्टे और लोहे के बीम लगाए जा रहे हैं। सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए जमरूदपुर गांव से ब्लू बेल्स स्कूल के बाहर वाला रास्ता बंद है और उसी रास्ते से ट्राला, कंटेनरों पर माल की सप्लाई की जा रही है। इसी रास्ते सेगमेंट और लांचर को हटाने के लिए सामग्री भेजी जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:क्रेन पलटने पर स्कूल की दीवार हो जाती क्षतिग्रस्त