DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लश्कर फिर कर सकता है भारत पर हमलाः यूएन

लश्कर फिर कर सकता है भारत पर हमलाः यूएन

संयुक्त राष्ट्र के एक उच्चाधिकारी ने बुधवार को कहा कि लश्कर-ए-तैयबा अब भी सक्रिय है और इस बात का वास्तव में खतरा है कि भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ाने के लिए वह भारत को फिर से निशाना बनाए।

सुरक्षा परिषद के अलकायदा और तालिबान पर लगाए प्रतिबंधों की निगरानी समिति के समन्वयक रिचर्ड बॉरेट ने कहा लश्कर की चालबाजी स्वाभाविक है। वह ऐसे समय में भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ाने की पूरी कोशिश कर रहा है, जब उन पर और उनके सहयोगियों पर पश्चिमी पाकिस्तान में पर्याप्त दबाव पड़ रहा है।

भारत में मुंबई पर हमले समेत कई आतंकी हमलों के लिए जिम्मेदार संगठन लश्कर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने आतंकी संगठन घोषित कर रखा है। वॉरेट ने कहा वे ऐसा दोबारा कर सकते हैं और इस बात का वास्तव में खतरा है। वॉरेट ने समिति के अध्यक्ष थॉमस मेयर--हार्टिंग के साथ संयुक्त पत्रकार वार्ता में यह बातें कहीं।

वॉरेट ने कहा कि लश्कर के तालिबान के साथ संबंध हैं। कई हमले लाहौर में भी हुए हैं, जो कबीलाई इलाका नहीं है, यहां तक कि कश्मीर में मौजूद पाकिस्तानी सैनिकों पर भी हमले हुए हैं। मुझे लगता है कि वे पाकिस्तान के लिए वास्तविक खतरा हैं।

अफगानिस्तान और ईरान के सीमावर्ती इलाकों में तालिबान की गतिविधियों के बारे में पूछे जाने पर संरा अधिकारी बर्नेट ने कहा कि इलाके में अल कायदा के सक्रिय होने संबंधी खबरों के बावजूद इसकी पुष्टि नहीं हुई है।

उन्होंने कहा कि तालिबान को वित्तीय मदद देने वाले मादक पदार्थों के व्यापार में लिप्त कुछ लोगों की सूची बनाने ते प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि ईरान के सीमावर्ती इलाकों में मादक पदार्थों का व्यापार फलफूल रहा है।

चीन के इस्लामी आंदोलन के बारे में पूछे जाने पर बर्नेट ने कहा कि इसका नाम सूची में शामिल है और पाकिस्तान-अफगानिस्तान सीमावर्ती इलाकों में अल कायदा के साथ इसके संबंध चिंता का विषय हैं। उन्होंने कहा कि आंदोलन के सदस्य उत्तरी अफगानिस्तान की ओर बढ़ते प्रतीत होते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लश्कर फिर कर सकता है भारत पर हमलाः यूएन