DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खतरनाक है चियरलीडिंग

खतरनाक है चियरलीडिंग

पिछले कुछ सालों में भारत में भी चियरलीडर्स का प्रचलन काफी बढ़ गया। कम से क्रिकेट में तो चियर लीडर्स की उपस्थिति अनिवार्य-सी हो गयी है, लेकिन दूसरों को चियर्स करने वाली ये लड़कियां टंबलिंग, डांस, जंप्स और दूसरे किस्म के स्टंट्स करने की वजह से अक्सर खतरों से घिरी रहती हैं।

गुजरे कुछ वर्षो में किये तमाम सुरक्षा उपायों के बावजूद इन्हें कुछ दुर्घटनाओं को सामना करना पड़ा। हालांकि कुछ रिपोर्ट्स कहती हैं कि चियरलीडिंग एक ऐसा खेल है, जो अन्य किसी भी खेल के मुकाबले ज्यादा खतरनाक है और जिसमें चोट लगने की सबसे ज्यादा संभावनाएं रहती हैं। अनुसंधानकर्ताओं ने अपने अध्ययन में पाया है कि 1982 से 2007 के बीच 103 दुर्घटनाएं हुईं, जिनमें 63 दुर्घटनाएं चियरलीडर्स के साथ हुई थीं और ये हाई स्कूल की लड़कियां थीं। चियरलीडिंग के बाद जो सबसे खतरनाक खेल पाया गया  वह है जिमनास्टिक। इस खेल में सात दुर्घटनाएं हुईं।
 
चैपल हिल की नार्थ कैरोलिना यूनिवर्सिटी के नेशनल सेंटर फॉर कैटेसट्रॉफिक स्पोर्ट्स इंजरी रिसर्च ने हाल ही में इस विषय पर अपनी 26वीं सालाना रिपोर्ट जारी की है। हाई स्कूल और कॉलेज स्तर पर लड़कों-लड़कियों के 2007-2008 के ताजा अकादमिक आंकड़ों में कैटेसट्रॉफिक इंजरीज को गंभीर दुर्घटनाओं के रूप में परिभाषित किया गया है। पिछले 26 साल के आंकड़ें बताते हैं कि खेलों में भागीदारी के दौरान कुल 1116 गंभीर दुर्घटनाएं हुईं, जिनमें से 905 हाईस्कूल स्तर पर और 211 कॉलेज स्तर पर हुईं। हालांकि इस अनुसंधान में यह भी पाया गया कि चियरलीडिंग के दौरान होने वाली दुर्घटनाओं में हल्की-सी कमी आई है।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खतरनाक है चियरलीडिंग