अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वर्ष 2007—08 के दौरान राजकोषीय स्थिति में सुधार

बिहार द्वारा वर्ष 2007—08 के दौरान 20 प्रतिशत राजस्व का सजन किए जाने से प्रदेश में पहले की तुलना में राजकोषीय स्थिति में सुधार आया है।प्रदेश के उपमुख्यमंत्री सह वित्त मंत्री सुशील कुमार मोदी द्वारा बिहार विधानमंडल के पटल पर गत 31 मार्च को समाप्त हुए वर्ष के भारत के नियंत्रक—महालेखापरीक्षक :कैग: के रखे गए प्रतिवेदन में उल्लेखित किया गया है कि वर्ष 2006—07 में मुख्य राजकोषीय मानकों राजस्व राजकोषीय आरंभिक घाटा या आधिक्य के मूल्यांकों की तुलना में वर्ष 2007—08 के दौरान बिहार के राजकोषीय स्थिति में सुधार हुआ है।
   

कैग की रिपोर्ट में बिहार में सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) की तुलना में राजकोषीय घाटा  वर्ष 2006—07 के 3.05 प्रतिशत से घटकर चालू वर्ष में 1.62 प्रतिशत हो गया है। रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2007—08 के दौरान कुल 43004.44 करोड रूपये के बजट प्रावधान के विएद्ध 31614.65 करोड रूपये का व्यय किया गया। रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2007—08 के लिए बिहार सरकार की कुल प्राप्तियां 28209.08 करोड़ रूपये थी और राज्य सरकार ने कर राजस्व के 5085.53 करोड़ रूपये और कर भिन्न राजस्व के 525.59 करोड़ रूपये को मिलाकर कुल 5611.12 करोड़ रूपये का राजस्व सृजित किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वर्ष 2007—08 के दौरान राजकोषीय स्थिति में सुधार