अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

न्याय की लाचारी

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एच. एस. सभरवाल हत्याकांड के तमाम आरोपियों के छूट जाने का स्वागत किया है। उन्हें जानना चाहिए कि अदालत का यह फैसला बतौर मुख्यमंत्री उनकी नाकामी और उनकी सरकार की अविश्वसनीयता को भी दिखाता है। इस नाकामी और अविश्वसनीयता का पहला सबूत तो इस मामले को राज्य से बाहर ले जाने का फैसला था, क्योंकि मृतक के परिजनों को यह विश्वास नहीं था कि राज्य में ठीक से मुकदमा चल पाएगा। इस फैसले ने यह स्पष्ट कर दिया कि राज्य सरकार के बारे में उनका यह शक सही था।

न्यायाधीश ने इस मामले में फैसला देते हुए यह कहा है कि अभियोजन पक्ष ने मामला ठीक से पेश नहीं किया, इसलिए सबूतों के अभाव में उन्हें मजबूरन अभियुक्तों को छोड़ना पड़ रहा है। सरकारी वकील का यह कहना था कि उन्हें सही सबूत दिए ही नहीं गए। हत्या के समय की वीडियो रिकार्डिग जो अदालत के सामने प्रस्तुत की गई उसमें महत्वपूर्ण अंश काट दिए गए थे। तमाम गवाह भी मुकर गए थे और यह मानने के ठोस कारण हैं कि उन पर दबाव डाला गया था।

जब राज्य के मुख्यमंत्री ने शुरू में ही इस हत्या को ‘हादसा’ बता दिया था तो जाहिर है कि राज्य की मशीनरी क्या करती। लेकिन न्यायाधीश के बयान ने समूची राज्य सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया है। भले ही राज्य सरकार चलाने वाली पार्टी से जुड़े लोग सड़कों पर खुशियां मनाते दिख रहे हैं, लेकिन राज्य सरकार और भाजपा के लिए दूरगामी रूप से न्याय को इस तरह प्रभावित करने की कोशिश बहुत फायदेमंद नहीं होगी। यह कोई रंजिश के चलते सड़क पर हुई हत्या नहीं थी।

यह एक शिक्षक की हत्या थी और इसके आरोपी तथाकथित छात्र नेता थे, जिनमें से एकाध अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में महत्वपूर्ण पद पर बताए जते हैं। इससे आम जनता के मन में भाजपा या अभाविप की छवि पर कोई चार चांद नहीं लगे हैं। यह भी अनायास नहीं है कि न्याय को प्रभावित करने की कोशिशों को देखते हुए तमाम लोगों को इस मामले में जेसिका लाल हत्याकांड की याद आई जिसमें पार्टी में मौजूद सभी गवाह मुकर गए थे।

हमें उम्मीद करनी चाहिए कि इस फैसले से समाज में वसा ही रोष पैदा होगा, जसा जेसिका लाल या प्रियदर्शिनी मट्ट के मामले में हुआ था। सभरवाल के परिजन ऊपरी अदालत में जाने का निश्चय कर चुके हैं और विद्वान न्यायाधीश ने अपने फैसले में ऐसे सूत्र छोड़े हैं जिनके आधार पर इस न्यायपालिका से न्याय मिलने की पूरी उम्मीद कर सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:न्याय की लाचारी