DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड में जल्द चुनाव कराने की मांग

लोकसभा में विपक्ष ने आज झारखंड विधानसभा को भंग कर राज्य में जल्द चुनाव कराए जाने की मांग की।
 झारखंड में राष्ट्रपति शासन की अवधि छह महीने और बढाने तथा राज्य के 2009.10 के बजट पर चर्चा के दौरान विपक्ष ने आरोप लगाया कि राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति लड़खडा गई है और विकास कार्य ठप हैं। लिहाजा विधानसभा को भंग कर राज्य में जल्द चुनाव कराए जाने चाहिए।


 भारतीय जनता पार्टी के अजरुन मुंडा ने चर्चा में हिस्सा लेते हुए कहा कि झारखंड के राज्यपाल केन्द्र सरकार के एजेंट के तौर पर काम कर रहे हैं। वह कांग्रेस के नेतृत्व वाले संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन को विधायकों की खरीदफरोख्त के जरिए राज्य में फिर से सरकार बनाने का मौका दे रहे हैं। 


 उन्होंने आरोप लगाया कि राष्ट्रपति शासन के दौरान राज्य का विकास अवरुद्ध हो गया है और विधि व्यवस्था चरमरा गई है। अपराधों में तेजी से इजाफा हुआ है और आर्थिक अनियमितताओं के कई मामले सामने आए हैं।
 मुंडा ने लोकसभा के साथ ही झारखंड विधानसभा के चुनाव नहीं कराने के पीछे केन्द्र की नीयत पर सवाल उठाया। उन्होंने राष्ट्रपति शासन की अवधि बढाने के सरकार के कदम को राज्य के हितों के खिलाफ करार दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:झारखंड में जल्द चुनाव कराने की मांग