अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टेस्ट के खेल में मिला क्रिकेट का असली टेस्ट

टेस्ट के खेल में मिला क्रिकेट का असली टेस्ट

आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच ड्रा समाप्त हुए पहले एशेज टेस्ट में आखिरी गेंद तक रोमांच बरकरार रहने से यह साबित हो गया है कि टेस्ट क्रिकेट ही सर्वश्रेष्ठ है और टवेंटी20 से इसके लिए खतरा उत्पन्न होने को लेकर जो आशंकाएं उठाई जा रही हैं वे सब इस टेस्ट के रोमांच के बाद खारिज हो गई हैं।

टेस्ट क्रिकेट को टवेंटी20 के दो विश्वकप और इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के दो टूर्नामेंटों की जबर्दस्त कामयाबी के बाद खतरे में माना जा रहा है और यह बात भी उठाई जा रही है कि टेस्ट मैच को भी टवेंटी20 के अंदाज में ही दो-दो पारियों का कर दिया जाए। लेकिन एशेज सीरीज के पहले टेस्ट में दो परंपरागत प्रतिद्वंद्वियों आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड ने जिस रोमांचक क्रिकेट का प्रदर्शन किया उसने यह साबित कर दिया है कि असली क्रिकेट सिर्फ टेस्ट है और इस खेल की खूबसूरती टेस्ट के अंदर ही है।

महान सलामी बल्लेबाज सुनील गावस्कर ने एक दिन पहले जब यह बात कही कि क्रिकेट की खूबसूरती अब कहीं खो गई है तो उनका सीधा इशारा टेस्ट क्रिकेट की तरफ था। इस खेल की जिस खूबसूरती की वह बात कर रहे थे वह एशेज के पहले टेस्ट में पूरी तरह दिखाई दी। गेंद और बल्ले का जो रोमांचक संघर्ष इस मैच में देखने को मिला वह कभी टवेंटी20 या वनडे में दिखाई नहीं दे सकता।

आस्ट्रेलिया को यह टेस्ट जीतने के लिए एक अदद विकेट की तलाश थी और इंग्लैंड को मैच बचाने के लिए लगभग 12 ओवर निकालने थे। जेम्स एंडरसन और मोंटी पनेसर की आखिरी जोडी़ मैदान में थी। आस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग ने इस जोडी़ को तोड़ने के लिए अपने तरकश के हर तीर का इस्तेमाल किया लेकिन उन्हें कामयाबी हाथ नहीं लगी। कार्डिफ के मैदान में आखिरी गेंद फेंके जाने तक कोई दर्शक अपनी जगह से नहीं हिला था। मैच ड्रा समाप्त होने पर जब एंडरसन और पनेसर पवेलियन की तरफ लौट रहे थे तो खचाखच भरे स्टेडियम में दर्शकों ने खडे़ होकर तालियां बजाते हुए उनका इस तरह स्वागत किया मानो उन्होंने टेस्ट ही जीत लिया हो।

इतना रोमांच टवेंटी20 या वनडे में देखने को नहीं मिल सकता। बल्लेबाज के चारों तरफ फील्डर खडे़ थे। हर गेंद पर खिलाडि़यों और दर्शकों की सांसे थमी हुई थी। एंडरसन और पनेसर में से कोई भी आउट होता तो जीत आस्ट्रेलिया के हाथ लग जाती। लेकिन क्रिकेट की अनिश्चितता के क्या कहने। दोनों ही बल्लेबाज ऐसे खेल रहे थे मानो कि वे सलामी विशेषज्ञ बल्लेबाज हों। सीधे बल्ले से दोनों ने स्पिन और तेज गेंदबाजों को बखूबी खेला।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) टेस्ट मैचों में दर्शकों की संख्या में गिरावट और टवेंटी20 की बढ़ती लोकप्रियता से खासी चिंतित थी। लेकिन इस मैच के बाद उसे जरूर राहत मिली होगी और साथ ही उसे विश्वास हो गया होगा कि इस तरह के मैच टेस्ट क्रिकेट को जिंदा रख सकते हैं।

एशेज ही क्यों पाकिस्तान और श्रीलंका के बीच पहला टेस्ट भी नाटकीय उतार चढा़व से भरपूर रहा था। एक समय तक हर कोई पाकिस्तान को जीत का दावेदार मान रहा था लेकिन मैच के चौथे दिन की सुबह अचानक खेल ने ऐसा पलटा खाया कि श्रीलंका ने 50 रन से यह मैच जीतकर सबको हतप्रभ कर दिया। क्रिकेट की ऐसी अनिश्चितता के बारे में केवल टेस्ट क्रिकेट में ही देखा और सुना जा सकता है। टवंटी20 में फैसला तीन घंटे में होता है इसलिए ऐसा रोमांच उसमें देखने को नहीं मिल सकता।

कई मौजूदा और पूर्व खिलाडी़ भी यह मानते हैं कि टेस्ट क्रिकेट ही असली क्रिकेट है। टेस्ट और वनडे के विश्व रिकार्डधारी सचिन तेंदुलकर ने कहा है कि क्रिकेटर की अग्निपरीक्षा केवल टेस्ट में ही होती है। जहां उसे पांच दिन तक खेलने का जज्बा दिखाना होता है। बल्लेबाज को जहां लंबी पारी खेलनी होती है वहीं गेंदबाज को लंबे स्पेल डालने होते हैं।

मौजूदा आस्ट्रेलियाई कप्तान पोंटिंग ने टेस्ट क्रिकेट पर अपना ध्यान केन्द्रित करने के लिए आईपीएल के दूसरे संस्करण में खेलने का मोह ही त्याग दिया था। जहां दुनियाभर के खिलाडी़ आईपीएल में खेलने को बेताब थे वहीं पोंटिंग का यह फैसला साबित करता है कि वह टेस्ट क्रिकेट को कितना महत्व देते हैं।

पूर्व आस्ट्रेलियाई कप्तान इयान चैपल ने भी टेस्ट को ज्यादा अहमियत देने की बात कही थी। उन्होंने कहा कि टेस्ट में बल्लेबाजों की असली परीक्षा होती है जबकि टवेंटी20 क्रिकेट तुरत-फुरत क्रिकेट है जिसमें न तकनीक की जरूरत होती है और ना ही कौशल की। टेस्ट क्रिकेट लंबी रेस का घोडा है।

वहीं पूर्व भारतीय कप्तान अनिल कुंबले ने भी टेस्ट क्रिकेट को सबसे बेहतरीन संस्करण बताया था। उन्होंने कहा कि टवेंटी20 क्रिकेट भले ही मनोरंजक हो सकता है लेकिन असली मजा तो टेस्ट क्रिकेट में ही है।

एक समय वनडे को टेस्ट क्रिकेट के लिए खतरा माना गया था लेकिन टेस्ट मैचों ने वह तूफान भी बखूबी झेल लिया था। अब टवेंटी20 को जब टेस्ट और वनडे दोनों के लिए खतरा माना जा रहा है तो विशेषज्ञों का कहना है कि टेस्ट मैच अपने परंपरागत स्वरूप के साथ बना रहेगा। लेकिन पचास ओवर के मैचों को बीस ओवर के मैचों से ही ज्यादा खतरा हो सकता है। टेस्ट का असली मजा सिर्फ पांच दिन के मैचों में है उसे यदि टवेंटी20 के स्वरूप में बदलकर दो-दो पारियां खेलने का कोई विचार हो तो यह टेस्ट के स्वरूप के साथ एक भयानक खिलवाड़ होगा।

लेकिन इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया के बीच खेले गए पहले टेस्ट और पाकिस्तान और श्रीलंका के बीच खेले गए पहले टेस्ट में जो रोमांच देखने के मिला उससे इतना तो जरूर साबित हुआ कि टेस्ट क्रिकेट ही असली क्रिकेट है। इसके अलावा क्रिकेट इस लंबे संस्करण में छेड़छाड़ पर भी अब विराम लगना चाहिए क्योंकि किसी फारमेट में अगर आप बदलाव करते हैं तो उसका उल्टा असर भी पड़ सकता है। बहरहाल इन दो टेस्टों ने इतना तो साबित कर ही दिया कि "टेस्ट इज बेस्ट"।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:टेस्ट के खेल में मिला क्रिकेट का असली टेस्ट