DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मानसून की बेरुखी से बिजली उत्पादन में भारी कमी

मानसून की बेरुखी से बिजली उत्पादन में भारी कमी

मानसून की बेरुखी से देश के लगभग सभी जलविद्युत संयंत्रों की उत्पादन क्षमता 40 प्रतिशत घट गई है जिससे विद्युत संकट और गहराने की आशंका है।

ऊर्जा मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार कम बारिश से बडे़ जलाशयों में जल स्तर घट गया है और प्रमुख फसलों की बुवाई प्रभावित हुई है। गत जून माह में पिछले 83 वर्षों में सबसे कम वर्षा हुई है और जुलाई के पहले सप्ताह में भी सामान्य से कम बारिश हुई है।

ऊर्जा सचिव हरिशंकर ब्रह्मा ने मंगलवार को संवाददाताओं से कहा कि जलाशयों में पानी निचले स्तर तक पहुंच गया है। लगभग सभी परियोजनाओं में क्षमता से 40 प्रतिशत कम विद्युत उत्पादन हो रहा है।

ऊर्जा मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा है कि देश में 15 से 20 हजार मेगावाट विद्युत की कमी है। उन्होंने कहा कि प्रमुख खाद्यान्न उत्पादक राज्यों हरियाणा और पंजाब को सिंचाई के लिए अधिक विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी। उन्होंने कहा कि इन राज्यों में पानी तो है लेकिन विद्युत की कमी है। उन्होंने कहा कि यदि मानूसन की हालत न सुधरी तो चिंता की बात होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मानसून की बेरुखी से बिजली उत्पादन में भारी कमी