अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बृहद पौधारोपण अभियान की कैसे हो शुरूआत

 आकाश में बादल घिरने तथा घुमड़-घुमड़ कर उड़ जाने से इन दिनों सरकारी अफसर बेहद टेंशन में हैं। उन्हें बृहद पौधारोपण अभियान की चिन्ता सता रही है। एक जुलाई से शुरू होने वाले पौधारोपण अभियान की अभी तक विधिवत शुरूआत तक नहीं हो पायी। इस स्थिति में जीडीए व नगर निगम दोनों महकमों के अफसर हैरान हैं। दरअसल,जीडीए द्वारा मॉनसूनी सीजन में शहर में एक लाख इकतीस हजार पौधे लगाने का लक्ष्य रखा गया है वहीं नगर निगम ने इस सीजन में 51 हजर पौधे लगाने का लक्ष्य रखा है। इसमें अकेले 31 हजार पौधे देशी-विदेशी बोगनविलिया के लगाए जाने हैं,जो डिवाइडरों व ग्रीन बेल्ट पर लगाए जाने हैं। लेकिन मॉनसूनी बरसात में अभी तक एक भी झमाझम बारिश नहीं हो पायी।

वरना अब तक बृहद पौधारोपण अभियान रफ्तार में होता। पचास हजार से भी ज्यादा पौधे ग्रीन बेल्ट,डिवाइडरों व साइड पटरी पर अब तक रोप दिए जाते। जीडीए के हार्टिकल्चर अफसर एसपी शिशौदिया का कहना है कि मॉनसूनी सीजन में अब तक बारिश नहीं होने से पौधारोपण अभियान का काम तेज गति से नहीं हो पा रहा है। लेकिन पौधे रोपने का काम शुरू है। प्राधिकरण आदर्श योजना के जीडीए कार्यालय से लेकर मेरठ रोड तिराहे तक तथा इंदिरापुरम में सीआईएसएफ से सैंट्रल बर्ज पर तथा कुछ पार्को में पौधारोपण कार्य कराया जा रहा है। उद्यान निरीक्षक गोविंद सिंह ने बताया कि बारिश न होने के बावजूद अब तक पांच हजार से ऊपर तक पौधे लगाए जा चुके हैं। पौधों में सिंचाई के लिए टैंकरों से पानी लगाया जाता है लेकिन बरसात होने के बाद की बात ही कुछ और होती। फिर भी लक्ष्य प्राप्ति के लिए भरसक प्रयास किए जाएंगे। हजारों स्थानों पर पौधरोपण के लिए गड्डे कर बाड़ लगाने का काम एएलटी रोड संजयनगर में चल रहा है। उधर, निगम के उद्यान प्रभारी एके सिंह का कहना है कि बरसात न होने के कारण ही अब तक अभियान शुरू नहीं किया गया है। जबकि पौधे रोपे जाने वाले स्थलों व पार्को को चिहिन्त किया जा चुका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बृहद पौधारोपण अभियान की कैसे हो शुरूआत