अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

धन का प्रयोग विकास कार्यों में होने की गारंटी नहीं : सपा

सपा ने कहा कि अगर वित्त आयोग प्रदेश को भरपूर आर्थिक मदद देने को सहमत भी हो जाये तो इस बात की क्या गारंटी की इस धनराशि का प्रयोग विकास कायरे में ही किया जायेगा। प्रदेश सपा अध्यक्ष एवं सांसद अखिलेश यादव ने सोमवार को कहा कि प्रदेश सरकार केन्द्र से जो भी धन मिल रहा है, उसका विकास कार्यों पर खर्च नही किया जा रहा है।
    

उन्होंने कहा कि दो दिवसीय दौरे पर आ रही वित्त आयोग की टीम अगर प्रदेश को उसके अनुरुप धनराशि निर्गत भी कर देगी तो मुख्यमंत्री मायावती इस धनराशि को पुन: मूर्तियों और पाकरें में नहीं लगायेंगी। उन्होंने प्रदेश सरकार से मांग की कि केन्द्र सरकार की तरफ से अब तक जो भी धनराशि प्रदेश को दी गयी है। उसका प्रदेश की जनता को पूरा ब्यौरा दे कि विकास कार्यों में कहां और कितना पैसा व्यय हुआ है।
    

प्रदेश सरकार पर अनावश्यक धन बर्बादी का आरोप लगाते हुए यादव ने कहा कि अगर धन आवंटित हो जाता है तो मायावती अनाप शनाप खर्च करेंगी और विपक्षी दल धरना प्रदर्शन करने के अलावा कुछ नहीं कर पायेंगे। यादव ने आरोप लगाया कि बढ़ती मंहगाई, बिजली संकट से बेहाल जनमानस की चिन्ताओं से बेखबर मुख्यमंत्री मायावती केवल वसूली का हिसाब किताब रखने में ही व्यस्त है। प्रदेश में बिजली के संकट ने अराजकता का माहौल पैदा कर दिया है और मांग तथा आपूर्ति में सरकारी रवैये से खाई बढ़ती जा रही है। उन्होंने कहा कि बगैर किसी सूचना के 18 से 20 घंटे तक बिजली कटौती की जा रही और आघोषित कटौती से काम धंधे बंद हो रहे हैं। मुलायम सिंह यादव के मुख्यमंत्रित्वकाल में बिजली संयंत्र लगाने के लिए निजी निवेशकों से समझौते किये गये थे। मगर मायावती ने खुद तो कुछ किया नहीं, समझौतों में अड़गेबाजी जरुर शुरु कर दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:धन का प्रयोग विकास कार्यों में, गारंटी नहीं : सपा