अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

..आउट ऑफ सीन हो गए तुलसी सिंह

समाजवादी पार्टी के केन्द्रीय नेतृत्व ने बिहार में चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा क्या की राज्य संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष तुलसी सिंह ‘आउट आफ सीन’ हो गये। उनका मोबाइल बंद हो गया है। सिर्फ मीडिया ही नहीं सपा से चुनाव लड़ने वाले कई दावेदार भी उन्हें सिद्दत से खोज रहे हैं। माामला दिलचस्प है, क्योंकि बिहार में चुनाव नहीं लड़ने की केन्द्रीय नेतृत्व की घोषणा के पूर्व ही वे बिहार के लिए पांच सीटों का सिंबल उड़ा चुके हैं। उतर प्रदेश में राजद और लोजपा का समर्थन लेने के लिए पार्टी नेतृत्व ने राजद- लोजपा गठबंधन के समर्थन में बिहार में एक भी सीट पर चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया है। अब बिहार में दिये गये सिंबलों की वापसी के लिए राज्य संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष तुलसी सिंह को खोज जारी है।ड्ढr ड्ढr श्री सिंह के आवास पर लगे लैन्ड लाइन पर उनसे बात नहीं हो रही है और उनका मोबाइल स्वीच ऑन नहीं हो रहा है। उधर प्रदेश अध्यक्ष अशोक सिंह बताते हैं कि सिंबल केन्द्रीय नेतृत्व को धोखे में डाल कर लाया गया है। अगर वापस नहीं हुआ तो पार्टी चुनाव आयोग को लिखेगी। पार्टी सूत्र बताते हैं कि केन्द्रीय नेतृत्व के इस निर्णय का एक कारण प्रदेश नेताओं की आपसी लड़ाई भी है। पार्टी ने पहले राज्य में 11 सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया था। प्रदेश अध्यक्ष अशोक कुमार कुमार सिंह ने सूची पेश की। दूसर धड़े की आपत्ति के बाद आठ सीटों पर बात बनी लेकिन इस पर भी अपसी राय नहीं बनी तो पार्टी ने पांच सिंबल तुलसी सिंह को दे दिया। इसी बीच पार्टी ने चुनाव नहीं लड़ने का पैसला किया तो सिंबल वापस कराना एक कठिन काम हो गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ..आउट ऑफ सीन हो गए तुलसी सिंह