DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रदेश में तीन नये सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज खुलेंगे। तकनीकी शिक्षा प्राप्त करने के लिए सूबे से पलायन  करने वाले छात्रों की संख्या कम करने के लिए सरकार ने यह निर्णय लिया है। सीतामढ़ी में सीतामढ़ी इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, छपरा में जयप्रकाश इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी और मधेपुरा में वी पी मंडल इंजीनियरिंग कॉलेज खुलेगा। इन कॉलेजों में 720 छात्रों का नामांकन होगा। राज्य सरकार ने इसके लिए भवन और हॉस्टल निर्माण की कार्रवाई शुरू कर दी है। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के अधिकारियों के मुताबिक अगले सत्र से इन तीनों कॉलेज में पढ़ाई प्रारंभ हो जाएगी।

नीतीश सरकार ने सत्ता संभालने के बाद अब तक चार नये इंजीनियरिंग कॉलेज खोले हैं। इससे सूबे में इंजीनियरिंग की सीटों में 780 की बढ़ोतरी हुई है। मोतिहारी इंजीनियरिंग कॉलेज, गया इंजीनियरिंग कॉलेज और दरभंगा इंजीनियरिंग कॉलेज में 180-180 सीटों के अलावा नालन्दा कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, चंडी में 240 सीटें बढ़ाई गई हैं। इसके पहले से प्रदेश में दो सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज चल रहे हैं। एमआईटी मुजफ्फरपुर में 247 और बीसीई भागलपुर में 174 सीटें हैं। फिलहाल सूबे के सरकारी कॉलेजों में इंजीनियरिंग की 1201 सीटें है। 720 नई सीटें बढ़ने से प्रदेश के नौ सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेजों में कुल 1921 सीटें हो जाएंगी। इसके साथ ही सूबे में पांच निजी इंजीनियरिंग कॉलेज भी चल रहे हैं जिनमें 779 छात्रों का नामांकन होता है। इसमें आरपीएस इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी और मौलाना आजाद इंजीनियरिंग कॉलेज पटना में हैं। तीन इंजीनियरिंग कॉलेज पूर्णिया, बिहटा और सीवान में खुले हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तीन सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज खुलेंगे