अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शराबबंदी का नशा

गुजरात में जहरीली शराब ने सौ से ज्यादा लोगों की जान लेकर यह बता दिया है कि शराबबंदी के दौरान मिलने वाला नशा खुले में बिकते नशे के मुकाबले ज्यादा घातक साबित हो सकता है। क्योंकि शराबबंदी के बावजूद नशा करने वाले बाज आते नहीं और यह व्यापार ऐसे माफिया के हाथ में होता है, जिसकी कोई जवाबदेही नहीं होती।

गुजरात राज्य को अपने गठन के बाद चौथी बार यह सबक सीखने का मौका मिला है फिर भी वह महात्मा गांधी की जन्मस्थली होने का पाखंड करते हुए शराबबंदी जारी रखे हुए है। इससे पहले यहां जहरीली शराब 1977 में अहमदाबाद में 101 लोगों, 1989 में बड़ोदरा में 132 लोगों और 1990 में जूनागढ़ में 17 लोगों की जान ले चुकी है। दरअसल गुजरात देश का अकेला राज्य है, जिसके गठन से लेकर आज तक वहां खुलेआम शराब की बिक्री पर रोक है।

इस बीच आंध्र प्रदेश, हरियाणा और उत्तराखंड जसे राज्यों ने भी शराबबंदी का प्रयास किया, पर उन्हें मुंह की खानी पड़ी। शराबबंदी के खिलाफ बड़ा आर्थिक तर्क राजस्व हानि का है। लेकिन उससे भी बड़ा तर्क सामाजिक प्रवृत्तियों का है। अगर समाज और सरकार स्वाभाविक तौर पर लोगों को नशे से दूर रहने के लिए तैयार नहीं कर सकते तो जबरदस्ती थोपे गए कानून के दुष्परिणाम सामने आएंगे ही।

यही गुजरात में भी हुआ। शराबबंदी का कानून होने के बावजूद वहां लोगों  ने न कानून का आदर किया, न ही महात्मा गांधी का। मध्यवर्ग और उच्चवर्ग के लोग डॉक्टरों से पर्ची लिखवा कर अपना गला तर करते रहे और गरीब वर्ग माफिया के हाथों में खेलता रहा। लेकिन गांव की भट्ठियों में बनने वाली यह शराब उतनी बुरी नहीं थी जितनी शहर के धंधेबाजों ने उसे बना दिया। उन्होंने एक तरफ एक से कई पोटली बनाने के लिए उसमें पानी की मिलावट की, दूसरी तरफ नशा बढ़ाने के लिए बैटरी का एसिड, यूरिया, वार्निश और मियाद पूरी कर चुकी दवाओं को मिलाया। यही सब जनलेवा साबित हुआ।

सवाल उठता है कि जब गुजरात को महात्मा गांधी के सांप्रदायिक सद्भाव, अपरिग्रह और अहिंसा जैसे किसी आदर्श को मानने में कठिनाई होती है, तो वह नशाबंदी का ही आदर्श क्यों उठाए घूम रहा है। इस तरह की त्रासदी की जड़ में यही दोगला व्यवहार है। इसलिए अब उसे गांधी के आदशों से ज्यादा लोगों की जन और स्वास्थ्य की सुरक्षा की चिंता करनी चाहिए और उसी लिहाज से नई नीति बनानी चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शराबबंदी का नशा