अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिरौती वसूलने के लिए एक नाबालिग बच्चे का अपहरण करने वाली महिला समेत चार मुजरिमों को अदालत ने उम्रकैद की सज सुनाई है। इसके अलावा चारों अपह्र्ताओं पर 20-20 हजर रुपये जुर्माना भी किया गया है। कड़कड़डूमा स्थित एडिशनल सेशन जज गुरदीप सिंह की अदालत ने आरोपी महिला सितारा उसके साथी नदीम, मुमताज और खालिद को भारतीय दंड संहिता की  धारा 364-ए(फिरौती के लिए अपहरण) के तहत दोषी ठहराते हुए कठोर कारावास की सज सुनाई है।

अभियोजन पक्ष के अनुसार उत्तर-पूर्वी दिल्ली के नेहरू विहार, गली नम्बर-6 में रहने वाले शकीर अहमद का 8 साल का बेटा फुरकान 28 जून 2006 को अचानक लापता हो गया था।  अहमद को अगले दिन बच्चे को छोड़ने के एवज में फिरौती का फोन आया। अपह्र्ताओं ने धमकी दी कि यदि अपने बेटे की सलामती चाहते हो, तो फिरौती की रकम पहुंचा दो। इस बाबत अहमद ने गोकुलपुरी थाने को सूचित किया। पुलिस ने जल बिछाकर आरोपी मुमताज, नदीम और खालिद को फिरौती की रकम वसूलते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया। आरोपियों ने कबूला की उन्होंने फिरौती वसूलने के लिए बच्चे को अगवा किया और बच्च संगम विहार में रहने वाली सितारा नामक महिला के पास है। अभियुक्तों की निशानदेही पर बच्चे को सितारा के घर से बरामद किया। अभियोजन पक्ष ने इस मामले में 8 गवाह पेश किए। अदालत ने पेश तथ्यों व साक्ष्यों के आधार पर महिला समेत चारों अभियुक्तों को फिरौती के लिए अपहरण का दोषी करार देते हुए सजा सुनाई है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महिला समेत चार को उम्रकैद