अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

26/11 के आतंकियों को मिली थी स्थानीय मदद

26/11 के आतंकियों को मिली थी स्थानीय मदद

गृहमंत्री पी. चिंदबरम द्वारा मुंबई हमले में शामिल आतंकियों के स्थानीय संपर्क और सहायता से इनकार किए जाने के दस दिन बाद ही शुक्रवार को अमेरिकी जांच एजेंसियों को इस बात के पक्के सबूत मिले हैं कि आतंकियों ने हमला करने के पहले और हमले के दौरान मुंबई, पुणे, नासिक और दिल्ली में विभिन्न लोगों के पास 91 कॉल किए थे। इन कॉल्स को रिसीव करने वाले किसी व्यक्ति की पहचान नहीं हो पाई है।

जांच में खुलासा हुआ है कि आतंकियों द्वारा ये सभी कॉल ‘वॉयस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल’ (कंप्यूटर से जोड़कर दुनिया के किसी हिस्से में फोन करने की तकनीक) से किए गए थे। इनका उपयोग आतंकियों के पाकिस्तान में बैठे आका कर रहे थे।

मुंबई पुलिस की अपराध शाखा को इस जांच में सहयोग कर रही अमेरिकी जांच एजेंसी फेडरेशन ब्यूरो और इंवेस्टिगेशन (एफबीआई) की टीम ने आतंकियों के फोन कॉल्स की जांच के बाद सौंपी रिपोर्ट में यह खुलासा किया है। इस रिपोर्ट को 26/11 के आतंकियों के खिलाफ दायर आरोप पत्र का हिस्सा बनाया गया है।

अपराध शाखा के प्रमुख राकेश मारिया कहते हैं, ‘हमने जब एफबीआई के अधिकारियों से पूछा कि क्या फोन लॉग में कोई स्थानीय नंबर भी आया है, तो उन्होंने कुछ नहीं बताया। हम वीओआईपी कनेक्शन से स्थानीय नंबरों पर किए कॉल्स को पकड़ नहीं पाए।’

आरोप पत्र के मुताबिक, 10 हमलावर आतंकियों द्वारा 30 वीओआईपी कनेक्शन का उपयोग ‘निर्देश और प्रेरणा’ देने के लिए किया गया। इन वीओआईपी नंबरों से 23 मोबाइल फोनों और 12 लैंडलाइन फोनों पर कॉल की गईं। 23 से 28 नवंबर के बीच इन कनेक्शनों से कुल 91 कॉल्स किए गए। इनमें से पहली कॉल दिल्ली के लैंडलाइन नंबर पर की गई। यह 23 नवंबर को तड़के डेढ़ मिनट तक की गई। इसके दो घंटे बाद ही तीन कॉल मुंबई के नंबर पर हुई। अगले दिन 24 नवंबर को एक घंटे के अंदर 11 मोबाइल नंबरों पर 15 कॉलें की गईं।

25 नवंबर को सुबह 8.12 मिनट पर नासिक रोड पोस्टमास्टर के ऑफिस कॉल की गई। 60 घंटे तक चले इस हमले और संकट के बीच मुंबई के एक मोबाइल नंबर पर कई बार वीओआईपी कनेक्शन से फोन आए। हर बार इस स्थानीय नंबर पर फोन करने के बाद हमलावर हमले की हर जगह- ताज होटल, ट्राईडेंट होटल और नरीमन हाउस से आपस में जुड जाते थे।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:26/11 के आतंकियों को मिली थी स्थानीय मदद