DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो इंटरस्टेट गैंग का पर्दाफाश, सात बदमाश पकड़े

अपराध शाखा पुलिस अधिकारियों ने हरियाणा के जेल वार्डन की हत्या,बुलंदशहर के सिनेमा मालिक व गुडगांव टेलीकॉम कंपनी के सीनियर मैनेजर सहित अनेक लोगों को लूटने वाले दो इंटरस्टेट गैंग का पर्दाफाश किया है। इस सिलसिले में सात लुटेरे गिरफ्तार किए गए हैं।

इनकी गिरफ्तारी से हत्या,हत्या के प्रयास व लूट के 11 मामलों की गुत्थी सुलझ ली गई है। इनके पास से चार कार तथा लूटी गई एक रिवाल्वर बरामद की है। अभियुक्तों के नाम मनोज कुमार,नार ¨सह,राशिद,विशाल शर्मा,शाहरुख,दिलशाद तथा नौशाद है। हरियाणा के बदमाश मनोज व नार ¨सह के बारे में नौ जुलाई को एसआईटी में तैनात हवलदार बलजीत ¨सह को सूचना मिली थी जिसके आधार पर निरीक्षक सत्यप्रकाश की टीम ने दोनों बदमाशों को मुखर्जी नगर धीरपुर के पास से गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ करने पर मनोज कुमार ने बताया कि वह रोहतक जट कालेज में बीएससी द्वितीय वर्ष में पढ़ता था।

वह शार्पशूटर रामधन उर्फ लीला के गैंग में काम करता था। उसने वर्ष 2003 में हिसार के जेल वार्डन की हत्या कर दी। दिसम्बर 2003 में गुडगांव में सीनियर मैनेजर की कार व अन्य सामान लूट लिया था। नार सिंह के पिता की हत्या कर दी गई थी बदला लेने के लिए उसने मार्च 2005 में राजबीर नाम युवक को गांव में ही मौत के घाट उतार दिया था।


अपराध शाखा की एएटीएस टीम ने शेख सराय आथरिटी के पास से राशिद व उसके चार साथियों को गिरफ्तार कर लिया। इस गैंग ने बुलंदशहर के एक सिनेमा मालिक को अगवा कर उसकी कार,रिवाल्वर व अन्य सामान लूट लिया था। अभियुक्तों की निशानदेही पर दो गाड़ी व रिवाल्वर बरामद की गई है। गैंग लीडर राशिद ने खजूरी खास में लूट की वारदात की थी। उसने आर्दश नगर इलाके से सेट्रों कार चोरी की थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो इंटरस्टेट गैंग का पर्दाफाश, सात बदमाश पकड़े