DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पहले सामान गायब किया, फिर सौदा

पलक झपकते ही ट्रेनों से सामान गायब करने वाला शातिर चोर गुरुवार को पटना रल पुलिस के हत्थे चढ़ गया। 22 मार्च को 3202 कुर्ला एक्सप्रेस की स्लीपर बोगी से इलाहाबाद बैंक के पीओ राजेश कुमार का बैग मसौढ़ी के चाननपुर निवासी जीतेंद्र कुमार ने गायब किया था। बाद में चोर ने मोबाइल पर राजेश कुमार को बैग में रखे प्रमाण पत्र लौटाने के एवज में एक लाख रुपये की मांग की। राजेश की सूचना पर पटना जीआरपी ने उसे परसा स्टेशन से गिरफ्तार किया।ड्ढr ड्ढr राजेश ने बताया कि 22 मार्च को आरा-बक्सर के बीच बिहिया स्टेशन पर वे शौचालय से लौटे थे सीट के नीचे रखा बैग गायब था। बैग में मैट्रिक से पीजी तक के सभी प्रमाण पत्र, दस हाार नकद, मोबाइल समेत अन्य सामान थे। इसकी लिखित सूचना उन्होंने पटना रल थाने को दी। 24 को राजेश ने चोरी हुई मोबाइल पर कॉल किया तो उधर से आवाज आई कि प्रमाण पत्र चाहते हो तो एक लाख रुपये देने होंगे। अंतत: 25 हाार रुपये में सौदा तय हुआ। सौदे के मुताबिक राजेश को 25 हाार रुपये लेकर परसा स्टेशन पहुंचना था। राजेश ने पूरी बात फिर रल एसपी डीएन गुप्ता को बताई। राजेश के साथ जीआरपी निरीक्षक आलोक कुमार व दो होमगार्ड के जवान सादे लिबास में परसा स्टेशन गए। राजेश प्लेटफॅर्म पर खड़ा था।ड्ढr ड्ढr चोर ने मोबाइल में राजेश की तस्वीर देखी थी, इसलिए वह तुरंत पहचान लिया। राजेश के पास वह जसे ही पहुंचा, कुछ दूरी पर खड़ी रल पुलिस ने उसे धर दबोचा। उसके घर पर छापेमारी कर सभी प्रमाण पत्र बरामद हुए, पर पैसे गायब थे। जीआरपी में मामला दर्ज कर जीतेंद्र को जेल भेज दिया गया। उसने बताया कि इस काम में उसके चचेर भाई संतोष व अरविंद ने भी साथ थे, जिनकी तलाश जारी है। पुलिस का दावा है कि इसकी गिरफ्तारी से ट्रेनों में सक्रिय बड़े चोर गिरोह को पकड़ने में सफलता मिलेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पहले सामान गायब किया, फिर सौदा