अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीयू के शिक्षकों की चुनाव में डय़ूटी

लाख विरोध के बावजूद पटना विश्वविद्यालय के शिक्षकों को चुनावी डय़ूटी में लगा दिया गया है। प्रशासन का पत्र मिलते ही शिक्षकों का गुस्सा और बढ़ गया है। कुलसचिव समेत पीजी विभाग के अध्यक्ष व कॉलेज के शिक्षकों को डय़ूटी का पत्र मिल चुका है। और तो और कॉलेजों को अधिगृहीत करने का निर्देश भी जारी कर दिया गया है। प्रशासन के इस कदम से शिक्षकों के साथ ही विवि प्रशासन की भी भौहें तन गयी हैं। अब इस स्थिति में एकेडमिक कैलेंडर को लागू करना और परीक्षा समय पर कराना कैसे संभव हो सकेगा? इस सवाल का जवाब ढूंढ़ने में विवि प्रशासन लग गया है।ड्ढr ड्ढr कुलसचिव, उप कुलसचिव समेत तीन सौ पदाधिकारी व कर्मचारियों को चुनावी डय़ूटी का पत्र थमाया गया है। बीएन कॉलेज व पटना कॉलेज में प्राचार्य को छोड़कर सभी शिक्षकों को चुनावी कार्य में मजिस्ट्रेट बनाया गया है। तीन अप्रैल से इनका प्रशिक्षण होगा। साइंस कॉलेज के शिक्षकों को भी चुनावी कार्य में लगाए जाने की चर्चा है। इसके अलावा प्रशासन ने चुनाव के लिए 21 मार्च से बीएन कॉलेज और 25 मार्च से पटना कॉलेज को अधिगृहित किया है। साथ ही विवि गेस्ट हाउस का उपयोग भी चुनावी कार्य में किया जाएगा। गुरुवार को दिनभर इस मामले को लेकर सरगर्मी रही। कुलाधिपति का स्पष्ट निर्देश है कि हरहाल में एकेडमिक कैलेंडर को लागू किया जाए। अब शिक्षकों के चुनावी कार्य में लगने के कारण 30 मई तक परीक्षा संपन्न कराना और जून के प्रथम सप्ताह तक रिाल्ट देना संभव नहीं हो सकेगा।ड्ढr ड्ढr पीजी विभाग के शिक्षक अधिक उम्र के होते हैं और चुनावी कार्य को सही ढंग से संपन्न कराना उनके लिए संभव नहीं होगा। वहीं राजनीतिक दल से जुड़े शिक्षकों को भी चुनावी डय़ूटी में लगाया गया है। इनमें से पूटा महासचिव डा. रणधीर कुमार सिंह भी हैं, जो कांग्रेस के टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़ चुके हैं। देर शाम कुलपति की अध्यक्षता में इस मुद्दे को लेकर बैठक हुई और अगले कदम पर चर्चा की गई।ड्ढr पूटा ने किया विरोधड्ढr विवि शिक्षकों को चुनावी कार्य में लगाने पर पूटा ने चुनाव आयोग और प्रशासन के इस कदम का विरोध किया है। पूटा महासचिव ने कहा है कि पटना लॉ जर्नल रिपोर्टर 2008 (वाल्युम 3, पेज 368) में संत मेरी वर्सेज चुनाव आयोग में स्पष्ट आदेश है कि शिक्षकों को चुनावी कार्य में नहीं लगाया जाएगा। बिहार एगामिनेशन कंडक्ट एक्ट 1में आदेश है कि परीक्षा में किसी प्रकार की बाधा गैरकानूनी है। प्रशासन ने इन दोनों का उल्लंघन किया है और इस पर विवि प्रशासन को कड़े कदम उठाने होंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पीयू के शिक्षकों की चुनाव में डय़ूटी