अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अफगानिस्तान में बलात्कार बड़ी समस्याः यूएन

अफगानिस्तान में बलात्कार बड़ी समस्याः यूएन

आतंकवाद से जूझ रहे मुल्क अफगानिस्तान में महिलाएं महफूज नहीं हैं, यहां तक कि उनके साथ आए दिन होने वाले बलात्कार को मामूली घटना के तौर पर देखा जा रहा है। यह नतीजा अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र संघ मानवाधिकार प्रतिनिधिओं के महिलाओं पर अध्ययन में सामने आया है।

इसकी पूरी रिपोर्ट बाद में पेश की जाएगी। इस दल से जुड़ी मानवाधिकार प्रतिनिधि नोराह नीलंद ने बताया कि अफगानिस्तान में बलात्कार आम घटना है। अफगानिस्तान में कानून बलात्कार पीड़िता के हक में नहीं है और इस घटना में इंसाफ  के लिए लोग परंपरा पर ही भरोसा करते हैं। जिसमें पीड़ित महिला को उल्टे उकसावे का दोषी समझा जाता है।

नोराह के अनुसार इस मुल्क में यह मामला संवेदनशील नहीं समझा जाता और यह अपराध लोगों के सामने नहीं रखे जाते तथा इन्हें दबा देने में ही आसानी देखी जाती है, लेकिन यह वास्तव में बहुत बड़ी समस्या है। सर्वेक्षण के एक नमूने के अनुसार उत्तरी अफगानिस्तान में बलात्कार के एक तिहाई मामलों से यह बात सामने आई है कि बलात्कारी स्थानीय नेता लोग हैं, जिन्हें पकड़ कर जेल में डालना फिलहाल असंभव है।

अध्ययन के अनुसार बलात्कार के मामलों में ज्यादातर नजदीकी रिश्तेदार, जेलकर्मी, ताकतवार लोग या सशस्त्र बल अथवा अपराधी गिरोह के लोग शामिल होते हैं। ज्यादातर समुदायों में बलात्कार की शिकार महिला को ही बेइज्जती झेलनी पड़ती है न की बलात्कारी को।

इन मामलों में इंसाफ  पाने की गुहार लगाने वालों को परंपरागत और धार्मिक परंपरा ‘जिना’ और ‘बाद’ का सहारा लेना पड़ता है। इससे पीड़िता को या तो दुराचारी से ही शादी करनी पड़ती है अथवा बलात्कारी को केवल विवाहेत्तर संबंध का ही दोषी समझा जाता है। रिपोर्ट के अनुसार इस देश के संविधान में बलात्कार जैसे जघन्य अपराध की कोई स्पष्ट व्याख्या नहीं है।

अफगानिस्तान की स्वतंत्र मानवाधिकार आयोग की प्रमुख सीमा समर के अनुसार सरकार दुराचार के मामलों में ढिलाई बरतती है, लेकिन देश में बलात्कार से जुड़े नए कानून की सख्त जरूरत है। हालत यह है कि देश में मामूली छेड़छाड़ और बलात्कार को समान अपराध समझा जाता है।

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के अनुसार स्थानीय परिषदें जैसे जिरगा या शूरा को यह मामले नहीं देखने चाहिए क्योंकि यह संस्थाए महिलाओं को दोयम दर्जे का मानती हैं और उनके अधिकारों का सम्मान न करके उन्हें ‘बाद’ या ‘जिना’ के लिए मजबूर करती हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अफगानिस्तान में बलात्कार बड़ी समस्याः यूएन