DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निर्यातकों को दी राहत

वैश्विक आर्थिक संकट की मार क्षेल रहे निर्यातकों को राहत प्रदान करते हुए सरकार ने दो फीसदी ब्याज सब्सिडी और बीमा कवर की अवधि सोमवार को बढ़ाकर मार्च, 2010 तक कर दी है।

लोकसभा में बजट 2009-10 पेश करते हुए वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने कहा कि हथकरा, हस्तशिल्प, कालीन, चमड़ा, रत्नएवं आभूषण और समुद्री उत्पाद सहित सात क्षेत्रों के लिए ऋण पर ब्याज सब्सिडी अब 31 मार्च, 2010 तक उपलब्ध रहेगी। यह सुविधा लाघु एवं मझोले निर्यातकों के लिए भी उपलब्ध होगी।


मुखर्जी ने कहा कि हमारे निर्यातकों को वैश्विक आर्थिक संकट का असर झेलना पड़ा है इसलिए यह उचित कदम होगा कि हम निर्यातकों को अल्पकालीन नुकसान से उबारने के लिए हर संभव सहायता उपलब्ध कराना जारी रखें। उक्त स्कीम की अवधि इसी वर्ष सितंबर में समाप्त हो रही थी। सरकार ने बाजार विकास सहायता स्कीम के लिए आबंटन चालू वित्त वर्ष के लिए 148 फीसदी बढ़ाकर 124 करोड़ रुपये कर दिया है।

एक्सपोर्ट क्रेडिट गारंटी कारपोरेशन (ईसीजीसी) की समायोजन सहायता स्कीम की अवधि भी बढ़ाकर मार्च, 2010 तक करदी गई है। सरकार ने इससे पहले ईसीजीसी के लिए 350 करोड़ रुपये की स्कीम की घोषणा की थी। ईसीजीसी निर्यातकों को वस्तुओं एवं सेवाओं के निर्यात में नुकसान के बदले ऋण जोखिम बीमा उपलब्ध कराती है। निर्यातकों के शीर्ष संगठन फियो ने बजट का स्वागत किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:निर्यातकों को दी राहत