अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फायदे का निवेश बने बैलेंस फण्ड

फायदे का निवेश बने बैलेंस फण्ड

अच्छे निवेशक बनना है तो लम्बे समय तक निवेशित रहने की आदत डालिए। बस ध्यान इतना रखना है कि निवेश सही जगह पर हो। अगर ऐसा किया जाता है तो शेयर बाजार से अच्छा रिटर्न और कहीं पाना संभव नहीं है।

पिछले दिनों मंदी के दौरान बैंकों ने अपनी जमा की ब्याज दरें बढ़ा दी थीं। ऐसा होते ही शेयर बाजर की गिरावट से परेशान निवेशकों ने बैंकों का रुख किया था। उस वक्त बैंक औसतन 11 फीसदी वार्षिक ब्याज दे रहे थे। जिन लोगों ने पैसा जमा किया होगा उनको 11 फीसदी ब्याज मिलेगा लेकिन जिन लोगों ने गिरावट के वक्त भी शेयर बाजर में निवेश किया होगा उनको अब बैंक एफडी से ज्यादा फायदा हो रहा है। एक वर्ष के दौरान बैंकों की एफडी की तुलना में बैंकों ने अच्छा ब्याज दिया है। यहां पर एक बात और ध्यान देने की है कि जिन लोगों ने पैसा पांच साल या इससे भी पहले लगाया होगा उनको वार्षिक आधार पर 20 फीसदी से ज्यादा ही फायदा हो रहा है। यानी बैंक की सबसे अच्छी ब्याज दरों से लगभग दो गुना ज्यादा फायदा।

बैंक की एफडी में अच्छे ब्याज के बाद जो एक बात कष्ट देती है वह है उसके पूरा होने पर मिले ब्याज पर आयकर देना। दूसरी तरफ इक्विटी म्यूचुअल फण्ड में एक साल से ज्यादा के निवेश पर जो भी लाभ होता है वह पूरी तरह से कर मुक्त होता है।

जानकारों की राय में शेयर बाजर एक दिन की कमाई की जगह नहीं है। यहाँ पर पूरी तैयारी और रणनीति के साथ निवेश की जरूरत होती है। इस मामले में हर माह निवेश का तरीका सिप सबसे अच्छा रहता है। एक तो हर माह थोड़ा-थोड़ा निवेश बाद में बड़ा बन जता है। इसके अलावा बाजार अगर निवेश के दौरान ऊपर नीचे होता है तो एवरेजिंग अच्छी हो जाती है। कुछ साल बाद ऐसी स्थिति आती है कि निवेश का बाजार मूल्य काफी ज्यादा हो जाता है। उस वक्त निवेशक को चाहिए कि निवेश की राशि को थोड़ा बढ़ा दे। ऐसा करने से निवेश का रिस्क तो कम हो जाता है और ज्यादा फायदे की संभावना भी बन जती है।

म्यूचुअल फण्ड में बैलेंस्ड फण्डों ने इस मामले में अच्छा प्रदर्शन किया है। इसका कारण इनका निवेश का तरीका है। यह पैसे को कई सेक्टर में डालते हैं। इससे नुकसान की आशंका कम होती है लेकिन बाजर बढ़ने पर ज्यादा फायदे की संभावना हो जाती है।

जानकारों की राय में इस वक्त भी बाजार में अच्छे फण्ड में निवेश शुरू किया ज सकता है। लेकिन निवेश के लिए कम से कम पांच साल का समय देना जरूरी है। ऐसा करने से बाजार के उतार-चढ़ाव का पूरा फायदा लिया जा सकेगा।

प्रमुख बैलेंस्ड फण्ड योजनाओं का प्रदर्शन

 योजना का नाम                  एसेट                       एनएवी                        एक साल                     पांच साल

 एसबीआई बेलेंस्ड                445                     41.10                             +16.5                      +26.4
 एचडीएफसी प्रूडेंस                2470                  138                                +23.8                        +26.0
 कैन बैलेंस्ड                        144                      44.78                             +21.6                         +24.2
 बिड़ला 95 फण्ड                 165                      225.75                           +27.5                          +24.1
 टाटा बेलेंस्ड                        218                     60.02                               +16.1                        +24.0
  कोटक बेलेंस्ड                     70                        21.11                               +9.0                           +23.5
प्रिंसिपल चाइल्ड बैनेफिट  20                        69.08                               +00                            +23.5
डीएसपी बेलेंस्ड                554                      48.80                               +13.0                          +22.8
  एफटी बेलेंस्ड                   269                     39.59                                 +17.4                            +20.7


                                                                                        (एसेट करोड़ और एनएवी रुपए में। एनएवी 4 जुलाई 09 की।)

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फायदे का निवेश बने बैलेंस फण्ड