अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मानसून ने किया निराश, धान की रोपाई पिछडी

उत्तर प्रदेश में मानसून की लुका - छिपी ने पूर्वांचल विशेषकर गोरखपुर मंडल में धान की अच्छी फसल पर प्रश्नचिन्ह लगा दिया है। पूर्वांचल में मानसून की रफ्तार सुस्त पड़ने से किसान मायूस हो गए हैं। पिछले एक सप्ताह पूर्व हुई वर्षा के दौरान जिन किसानों ने अपने धान की रोपाई कर दी थी अब वे दुबारा आसमान की तरफ देखकर मायूस हो रहे हैं।

पूर्वी उत्तर प्रदेश के गोरखपुर और बस्ती मंडल के महाराजगंज तथा सिद्धार्थनगर जिले को छोड़कर अन्य किसी भी स्थान पर पिछले 48 घंटे के दौरान एक बूंद भी पानी नहीं बरसा। आज दिन भर खिली धूप ने रही सही कसर पूरी कर दी। शहरी जीवन भी एक बार फिर उमस भरी गर्मी से बेहाल हो गया है।

दोनों मंडलों के सात जिलों में धान की लगभग 20 प्रतिशत पौध पहले ही धूप में झुलस चुकी है और अगर फिर पानी नहीं बरसा तो रोपे गए धान को बचा पाना भी मुस्किल होगा।

 इस बीच गोरखपुर के कृषि संयुक्त निदेशक उमाकान्त ने कहा कि मंडल में धान की फसल को कोई विशेष नुकसान नहीं हुआ है और किसानों को समय पर खाद - पानी और बीज मुहैया कराने का प्रयास किया जा रहा है लेकिन किसानो की स्थिति और मायूसी कुछ अलग हकीकत बयान करती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मानसून ने किया निराश, धान की रोपाई पिछडी