DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

केरल मुद्दे पर माकपा पोलित ब्यूरो की बैठक

केरल मुद्दे पर माकपा पोलित ब्यूरो की बैठक

माकपा की केरल इकाई में गुटबाजी और प्रमुख नेताओं के बीच खुले मतभेदों को समाप्त करने के लिए पार्टी पोलित ब्यूरो की शनिवार को बैठक हो रही है। दो दिवसीय इस बैठक में पार्टी महासचिव प्रकाश करात, एस रामचंद्रन पिल्लई, विमान बोस, वीएस अच्युतानंदन और पी विजयन भी शामिल हो रहे हैं।

पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य बैठक में भाग नहीं ले रहे हैं। पार्टी की यह दो दिवसीय विशेष बैठक मुख्यमंत्री अच्युतानंदन और राज्य सचिव विजयन के बीच खुले टकराव की स्थिति की पृष्ठभूमि में हो रही है।

पोलित ब्यूरो सदस्य एमके पांधे ने बैठक के पूर्व संवाददाताओं से कहा कि हम दो दिनों की बैठक कर रहे हैं। मैं बैठक के नतीजे के बारे में कोई भविष्यवाणी नहीं कर सकता।  उनसे सवाल किया गया था कि क्या पार्टी केरल में किसी नेता के खिलाफ कार्रवाई पर विचार कर रही है।

उन्होंने कहा कि एसएनएसी लवलीन रिश्वत मामला सहित केरल के सभी मुद्दों पर बैठक में विचार किया जाएगा। लवलीन मामले में विजयन आरोपों का सामना कर रहे हैं। केंद्रीय समिति की जून में हुई बैठक के बाद करात ने कहा था कि शीर्ष निर्णायक इकाई ने फैसला किया था कि विवादों का अंत जल्द होना चाहिए।

केरल के दोनों धड़ों ने पोलित ब्यूरो के समक्ष एक दूसरे के खिलाफ शिकायतें दर्ज करायी हैं। बैठक में उन शिकायतों पर विचार विमर्श होने की संभावना है। पिछले पांच साल में यह दूसरा मौका है, जब पोलित ब्यूरो की बैठक सिर्फ केरल से संबंधित मुद्दों पर विचार के लिए हो रही है। पहली ऐसी बैठक 13 फरवरी 2005 को कोलकाता में आयोजित हुई थी।

उधर अच्युतानंदन ने कल कहा था कि यह पार्टी और लोगों पर है कि वह पद पर बने रहें या नहीं। सीबीआई द्वारा रिश्वत मामले में विजयन के खिलाफ अभियोजन की प्रक्रिया शुरू किए जाने को देखते हुए वह विजयन को पद से हटाए जाने के पक्ष में हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:केरल मुद्दे पर माकपा पोलित ब्यूरो की बैठक